सुन्दरनाथ धाम मंदिर में वर्चुअल संवाद से जुड़े प्रधानमंत्री:डिप्टी सीएम सहित सांसद-विधायक अररिया में रहे मौजूद, मंदिर के महाभारतकालीन इतिहास की दी जानकारी

अररिया3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंदिर परिसर में आयोजित कार्यक्रम में मौजूद डिप्टी सीएम व अन्य नेता। - Dainik Bhaskar
मंदिर परिसर में आयोजित कार्यक्रम में मौजूद डिप्टी सीएम व अन्य नेता।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केदारनाथ से देश के 87 मंदिरों और तीर्थ स्थलों पर आयोजित कार्यक्रम में वर्चुअल संवाद स्थापित किया। देश के 87 प्रमुख मंदिरों और तीर्थ स्थलों में अररिया के कुर्साकाटा का सुंदरनाथ धाम मंदिर भी शामिल है. मंदिर परिसर में प्रधानमंत्री के वर्चुअल संवाद कार्यक्रम को लेकर बड़ा पंडाल का निर्माण किया गया था, जहां हजारों लोगों ने बड़े और छोटे-छोटे एलईडी स्क्रीन पर प्रधानमंत्री के संबोधन को सुना।

हालांकि प्रधानमंत्री ने अकेले सुन्दरनाथ धाम मंदिर को लेकर विशेष कोई बात नहीं कही। उन्होंने सम्बोधन के शुरुआत में स्पष्ट कर दिया कि सभी 87 मठ, मंदिर का नाम लेना सम्भव नहीं है।

प्रधानमंत्री ने अपना संबोधन बाबा केदार का नाम लेते हुए शुरू किया।
प्रधानमंत्री ने अपना संबोधन बाबा केदार का नाम लेते हुए शुरू किया।

क्या बोले प्रधानमंत्री

वर्चुअल संवाद में प्रधानमंत्री ने अपना संबोधन बाबा केदार का नाम लेते हुए शुरू किया। उन्होंने कोरोनाकाल मे उत्तराखंड के लोगों के साहस की सराहना की और कोरोना टीकाकरण की पहली डोज में शत-प्रतिशत लक्ष्य हासिल करने पर उत्तराखंड सरकार को बधाई दी। उन्होंने चार धाम सड़क परियोजना पर तेजी से काम होने की बात कही और इस परियोजना में सभी चारों धाम के एक साथ जुड़ जाने पर धार्मिक और पर्यटन के दृष्टिकोण से विकास होने की बात कही। उन्होंने अयोध्या में दीपोत्सव के भव्य आयोजन की भी चर्चा की।

काशी का कायाकल्प बदलने की बात करते हुए प्रधानमंत्री ने अयोध्या काशी मथुरा का जिक्र किया और भारत की धार्मिक,सांस्कृतिक गौरव सदियों बाद वापस आने की बात कही। प्रधानमंत्री ने आदि शंकराचार्य के पवित्र मठों की स्थापना पर भी विस्तार से बात रखी। अयोध्या में भव्य मंदिर बनने की बात करते हुए अयोध्या का गौरव वापस मिलने की बात उन्होंने कही। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा देखे गए पुनर्निर्माण का सपना आज पूरा हो रहा है।

दूर तक जाएगी वर्चुअल संवाद कार्यक्रम की गूंज

प्रधानमंत्री के संबोधन के बाद मंदिर परिसर में आयोजित कार्यक्रम में बिहार सरकार के डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि धर्म और अध्यात्म न केवल जीने की राह सिखाता है, बल्कि सामाजिक जीवन में अनुशासन का पाठ भी सिखाता है। उन्होंने कहा कि धार्मिक स्थल सामाजिक विषमता ऊंच-नीच, अगड़ी-पिछड़ी सभी भेदों को मिटाने का काम करता है। वहीं सांसद प्रदीप कुमार सिंह ने अपनी ओर से मंदिर के विकास और सौंदर्यीकरण को लेकर सकारात्मक पहल का आश्वासन दिया। जबकि विधान पार्षद डॉ दिलीप जायसवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के देश के 87 शिवालयों में वर्चुअल संवाद कार्यक्रम की गूंज दूर तक जायेगी और बड़ी संख्या में अब इन मंदिरों की ओर धर्मप्रेमियों के साथ पर्यटक भी मुखातिब होंगे।

इससे पहले मंदिर न्यास समिति के अध्यक्ष एवं सिकटी विधायक विजय कुमार मंडल ने मंदिर के अति प्राचीन महाभारतकालीन इतिहास और लगातार हो रहे उत्तरोत्तर विकास को लेकर जानकारी दी। संवाद कार्यक्रम को अन्य विधायकों और भाजपा नेताओं ने भी सम्बोधित किया।

कुर्साकांटा सुंदरनाथ धाम मंदिर परिसर में आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर बिहार सरकार के उपमुख्यमंत्री तारकेश्वर प्रसाद ने भाग लिया। मौके पर स्थानीय सांसद प्रदीप कुमार सिंह, विधान पार्षद डॉ दिलीप जायसवाल, फारबिसगंज विधायक विद्यासागर केसरी, नरपतगंज विधायक जयप्रकाश यादव, बनमनखी विधायक कृष्ण कुमार ऋषि, पूर्णिया विधायक विजय खेमका, सिकटी विधायक विजय कुमार मंडल, पूर्व विधायक लक्ष्मीनारायण मेहता, जनार्दन यादव, मायानंद ठाकुर सहित बड़ी संख्या में भाजपा के नेता मंदिर न्यास समिति के सदस्य और ग्रामीण मौजूद थे। सुंदरी मंदिर न्यास समिति के अध्यक्ष एवं सिकटी के भाजपा विधायक विजय कुमार मंडल ने सभी आगंतुकों का स्वागत मंदिर प्रबंधन की ओर से किया।