पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

विरोध:केंद्र सरकार जबरन किसानों के माथे पर थोप रही कृषि कानून : भक्तचरण दास

अररिया9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
तीन कृषि कानून के विरोध में सोमवार को पदयात्रा में शामिल कांग्रेस नेता। - Dainik Bhaskar
तीन कृषि कानून के विरोध में सोमवार को पदयात्रा में शामिल कांग्रेस नेता।
  • किसान आंदोलन के समर्थन में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने की किसान सत्याग्रह पदयात्रा
  • पदयात्रा में कांग्रेस के बिहार प्रभारी भक्त चरण दास व राज्यस्तरीय नेता हुए शामिल

किसान आंदोलन के समर्थन व केंद्र सरकार द्वारा लाई गई 3 कृषि कानून के विरोध में कांग्रेस के नवमनोनीत बिहार प्रभारी भक्त चरण दास व पार्टी के राज्यस्तरीय आधा दर्जन नेताओं ने सोमवार को शहर में किसान सत्याग्रह कार्यक्रम के तहत पैदल यात्रा किया। पार्टी नेताओं ने शहर के एनएच 327 ई पर कॉलेज मोड़, बस स्टैंड, चांदनी चौक होते हुए गांधी आश्रम स्थित अपने कार्यालय पहुंचा। पैदल यात्रा के दौरान कांग्रेस नेताओं ने केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी किया। नारेबाजी करते हुए नेताओं ने बताया कि देश की किसान नए कृषि कानून से त्राहिमाम है।उसके बावजूद सरकार लगातार पेट्रोल डीजल की दर बढ़ा रही जिसके कारण किसान व जनता की कमर टूट गई है।

ये नेता रहे उपस्थित
पैदल यात्रा में पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी,डॉ समीर कुमार सिंह,नेता विधान मंडल अजित शर्मा ,यूथ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष कुमार आशीष, अनिल शर्मा, जय प्रकाश चौधरी, पूर्व विधायक टुन्ना सिंह, शकलदेव पासवान , अररिया विधायक आबिदुर रहमान, जाकिर हुसैन खान, इन्द्रानंद यादव, अनिल कुमार सिन्हा, भोला तिवारी, सिबतैन अहमद, डॉ सदरे आलम, मासूम रेजा, शंकर साह, आवेश यासीन, शाद अहमद ,जफरुल हसन, अब्दुस सलाम, इंदु मिश्रा,शशि भूषण झा, गालिब चुन्ना, नूर आलम टीपू,सुशीला साह,अजात शत्रु, तारा आदि शामिल हुए।

जबतक नए कृषि कानून वापस नहीं होते तब तक आंदोलन जारी रहेगा

पद यात्रा के बाद बिहार प्रभारी ने किया प्रेस वार्ता किसान सत्याग्रह के तहत पद यात्रा करने के बाद पार्टी के नवमनोनीत बिहार प्रभारी भक्त चरण दास ने गांधी आश्रम स्थित जिला कांग्रेस कार्यालय में प्रेस वार्ता करते हुए बताया कि केन्द्र सरकार जबरन किसानों के माथे पर कृषि कानून थोप दिया है। जो किसी भी सूरत में किसानों के हक में नहीं है।इसलिए केन्द्र सरकार जब तक नए कृषि कानून को वापस नहीं लेती है तब तक किसान आंदोलन जारी रहेगा।उन्होंने बताया कि किसान आंदोलन में देश के कई दर्जन किसान शहीद हो गए पर केन्द्र सरकार हिटलर बनी हुई है।सरकार को किसानों से कोई लेना देना है।सरकार सिर्फ आपने फायदे के लिए देश के किसान व आम जनता को मुद्दों से भटकाने के लिए मनमानी तरीके से कार्य कर रहा है। उन्होंने संगठन को मजबूत करने के लिए जिले के नेताओं व कार्यकर्ताओं मूल मंत्र दिया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही है। व्यक्तिगत और पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। बच्चों की शिक्षा और करियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी आ...

    और पढ़ें