कार्रवाई:डीएम व एसपी की जांच में दोषी साबित हुए चौकीदार पर राैब झाड़ने वाले डीएओ

अररिया2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
चाैकीदार काे कान पकड़वा कर उठा-बैठक कराते जिला कृषि पदाधिकारी। - Dainik Bhaskar
चाैकीदार काे कान पकड़वा कर उठा-बैठक कराते जिला कृषि पदाधिकारी।
  • राष्ट्रीय आपदा अधिनियम के उल्लंघन का आरोप, पटना में देंगे याेगदान
  • पैर पकड़कर मंगवाई थी माफी, कान पकड़कर कराया था उठक-बैठक

रसूख वाले जिला कृषि पदाधिकारी मनोज कुमार को आखिरकार चौकीदार पर राैब झाड़ने के आरोप में निलंबित कर दिया गया है। इस संबंध में कृषि विभाग ने मंगलवार को आरोपी कृषि अधिकारी मनोज कुमार के निलंबन की अधिसूचना जारी की है। मामले का खुलासा होने के बाद सरकार ने अररिया डीएम-एसपी से जांच कराई थी। जांच के बाद डीएओ के खिलाफ केस भी दर्ज किया गया था, जिसमें राष्ट्रीय आपदा अधिनियम के उल्लंघन का आरोप लगाया गया है। इस मसले पर भी सरकार की बहुत किरकिरी हुई। इसके बाद कृषि मंत्री डॉ प्रेम कुमार सामने आये थे और उन्होंने कहा था कि पुलिसिया अनुसंधान चल रह है। मनोज कुमार को प्रमोशन नहीं दिया गया है, बल्कि जांच में बाधा नहीं डालें, इसलिए अररिया से हटाकर पटना बुला लिया गया है। निलंबन अवधि में इनका मुख्यालय पटना कृषि निदेशक कार्यालय रहेगा। मनोज कुमार का तबादला 3 दिन पहले कृषि विभाग ने उपनिदेशक के पद पर पटना किया गया था। 
पीड़ित चाैकीदार व संघ ने कार्रवाई का किया स्वागत
मनोज कुमार को निलंबित किए जाने के बाद पीड़ित चौकीदार और संघ ने खुशी जाहिर की है। आदेश में स्पष्ट है कि विभाग ने मनोज कुमार पर स्वेच्छारिता, आपदा अधिनियम के विरुद्ध आचरण करने और बिहार सरकारी सेवक आचरण नियमावली की धारा  के उल्लंघन का आरोप प्रमाणित हुआ है। मालूम हाे प्रखंड कृषि पदाधिकारी की शिकायत पर जिला कृषि पदाधिकारी मनोज कुमार ने पूरे अमले के साथ सूर्यापुर बैरियर पर तैनात चौकीदार गणेश प्रतिमा से ना सिर्फ उन्होंने पैर पकड़कर माफी मंगवाई, बल्कि 50 बार कान पकड़कर उठक बैठक करने को कहा। वायरल वीडियो का संज्ञान  मुख्यमंत्री, कृषि मंत्री से लेकर डीजीपी ने भी लिया। सरकार के आदेश पर जांच कराई गई और डीएम और एसपी ने संयुक्त जांच रिपोर्ट पटना को दी थी।

खबरें और भी हैं...