सरकार के MLA ही उठा रहे स्वास्थ्य व्यवस्था पर सवाल:कोरोना से पत्नी की मौत के बाद JDU विधायक बोले- स्वास्थ्य सेवा ठीक रहती तो हमारी पत्नी आज जिंदा रहती

अररिया6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रानीगंज के जदयू विधायक अचमित ऋषिदेव। - Dainik Bhaskar
रानीगंज के जदयू विधायक अचमित ऋषिदेव।
  • अररिया सदर अस्पताल में पिछले साल दिया वेंटीलेटर इस साल भी नहीं हुआ चालू

बिहार में स्वास्थ्य विभाग का हाल बेहाल है। अररिया के रानीगंज के जदयू विधायक अचमित ऋषिदेव की पत्नी के इलाज के अभाव में मौत के बाद स्वयं विधायक ने भी जिला स्वास्थ्य व्यवस्था पर सवाल खड़ा कर दिया है। रानीगंज के जदयू विधायक अचमित ऋषिदेव की पत्नी की मौत इलाज में हुई देरी की वजह से हुई थी। विरोधियो ने इस मामले को उछाला था। इतना ही नहीं, पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने भी इस मुद्दे पर सरकार को घेरा था। CM ने खुद अचमित ऋषिदेव से बात कर घटना की जानकारी ली थी।

जाप नेता ने भी इस मुद्दे पर सरकार को घेरा
भाजपा के मंगल पांडेय के हाथों संचालित लचर स्वास्थ्य व्यवस्था ने न केवल विपक्ष को, बल्कि सत्ता पक्ष को भी बोलने का मौका दे दिया है। अररिया के रानीगंज के जदयू विधायक अचमित ऋषिदेव की पत्नी मंजुला देवी के इलाज के अभाव में निधन के बाद जदयू विधायक भी बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था पर मुखर होकर बोलने लगे हैं और बकायदा इसकी शिकायत उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय से भी की। उन्होंने मंत्री से कहा कि अगर स्वास्थ्य सेवा ठीक रहती तो हमारी पत्नी जीवित होतीं। अररिया में युवा शक्ति के प्रदेश अध्यक्ष और जाप नेता प्रिंस विक्टर ने इस मुद्दे को लेकर जिला प्रशासन व सरकार को घेरा।

पड़े रह गए PM केयर से मिले वेंटीलेटर
दरअसल अररिया सदर अस्पताल को पिछले साल ही कोरोना की पहली लहर के दौरान पीएम केयर्स फंड से छह वेंटिलेटर मिले थे, लेकिन एक साल बाद भी सदर अस्पताल को मिला वेंटिलेटर ऑपरेटर के अभाव में चालू नहीं हो पाया और अगर सदर अस्पताल का वेंटीलेटर चालू रहता तो विधायक की पत्नी समेत जिले में हुई मौत के आंकड़े कम हो जाते। हालांकि मामले पर सिविल सर्जन ने कैमरा के सामने कुछ भी कहने से साफ इंकार कर दिया। बावजूद इसके अपनी पत्नी को खोये रानीगंज विधायक बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर मुखर होकर आवाज बुलंद कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...