पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फारबिसगंज नप चेयरमैन का चुनाव 1 अक्टूबर को:राज्य निर्वाचन आयोग की घोषणा के साथ ही सियासत तेज, कई पार्षद निकले सैर पर

अररिया3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मुख्य पार्षद के निर्वाचन की तिथि की घोषणा के साथ ही नगर परिषद की सियासत तेज हो गयी है। - Dainik Bhaskar
मुख्य पार्षद के निर्वाचन की तिथि की घोषणा के साथ ही नगर परिषद की सियासत तेज हो गयी है।

फारबिसगंज नगर परिषद के मुख्य पार्षद के रिक्त पद पर चुनाव की तिथि की घोषणा राज्य निर्वाचन आयोग ने कर दी है। राज्य निर्वाचन आयोग के सचिव ने डीएम प्रशांत कुमार सीएच को पत्र लिखकर 1 अक्टूबर को चुनाव कराए जाने का निर्देश दिया है। राज्य निर्वाचन आयोग के द्वारा डीएम को लिखे पत्र में 23 सितंबर तक सभी पार्षदों को निर्वाचन का सूचना दे दिए जाने का निर्देश देते हुए निर्वाचन के दिन ही मुख्य पार्षद के कुर्सी पर काबिज होने वाले पार्षद को शपथ ग्रहण कराये जाने का निर्देश दिया गया है।

इधर राज्य निर्वाचन आयोग की ओर से मुख्य पार्षद के निर्वाचन की तिथि की घोषणा के साथ ही नगर परिषद की सियासत तेज हो गयी है। कई पार्षद शहर को छोड़ दूसरे शहर की ओर सैर पर निकल गये हैं। नगर परिषद में जोड़तोड़ की राजनीति भी शुरू हो गयी है।

गौरतलब हो कि तत्कालीन मुख्य पार्षद चंदा जायसवाल के कार्यशैली को लेकर पूर्व उप मुख्य पार्षद मोतिउर रहमान की अगुवाई में पार्षदों ने अविश्वास प्रस्ताव लाया था, जो विशेष बैठक में ध्वनिमत से पारित हो गया था। उसके बाद रिक्त मुख्य पार्षद के पद पर उप मुख्य पार्षद कृष्णदेव भगत कार्यवाहक के रूप में आसीन हैं।

अब राज्य निर्वाचन आयोग ने स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव को लेकर एडीएम स्तर के अधिकारी को प्रेक्षक बनाये जाने का निर्देश दिया है। साथ ही चुनाव के दिन की सारी कार्यवाही की प्रक्रिया की वीडियोग्राफी कराये जाने का निर्देश है। कोविड-19 के आलोक में भारत सरकार, स्वास्थ्य मंत्रालय के गाइडलाइन के तहत निर्वाचन के दौरान निर्देशों को फॉलो करने के लिए आयोग ने स्पष्ट निर्देश दिया है।

खबरें और भी हैं...