कश्मीर में आतंक के शिकार मजदूरों के शव पहुंचे अररिया:दोनों रोजगार के लिए गए थे, बदले में मिली गोली

अररिया3 महीने पहले
शव के पास रोते-बिलखते परिजन।

कश्मीर में आतंकी हमले के शिकार हुए अररिया के दो मजदूरों का पार्थिव शरीर बुधवार सुबह उनके पैतृक गांव लाया गया। दोनों के शव को कश्मीर से हवाई मार्ग से पटना लाया गया, फिर सड़क मार्ग से रानीगंज पहुंचा और श्रम अधीक्षक निखिल रंजन ने राजा ऋषिदेव के शव को परिजनों को सौंपा। इसके बाद अररिया प्रखंड के बनगामा के खैरुगंज में योगेन्द्र ऋषिदेव का शव परिजनों को सौंपा गया।

शव को देखते ही परिजन फफक पड़े। इधर, ग्रामीण कश्मीर में काम की तलाश में गए गांव के अन्य युवकों की सलामती की दुआ कर रहे हैं। सांसद प्रदीप कुमार सिंह, पूर्व सांसद पप्पू यादव समेत ग्रामीण जनप्रतिनिधि और सामाजिक कार्यकर्ता पीड़ित परिवार से मिले और दर्द बांटा। केंद्रीय मंत्री गिरीराज सिंह भी गांव पहुंचकर पीड़ित परिवार से मिलने वाले हैं।

शव आते ही फफक पड़े परिजन।
शव आते ही फफक पड़े परिजन।

गांव में गम का माहौल, क्या कहते हैं परिजन...
मृतक योगेन्द्र ऋषिदेव की बहन जया देवी ने कहा की यहां पर कोई रोजगार नहीं था और रोजगार की तलाश में योगेंद्र अपने साथियों के साथ दूसरे प्रदेश में कमाने के लिए गया हुआ था। बच्चों को पढ़ाने-लिखाने और परिवार के भरण-पोषण के लिए वह दूसरे प्रदेश गया हुआ था। उन्होंने ठेकेदार ब्रह्मा नाम के युवक पर गांव से मजदूरों को काम के लिए ले जाने की बात कही और कहा कि छह महीना से काम कराने के बावजूद पैसे नहीं दे रहे थे और पैसे मांगने पर मारपीट और प्रताड़ित किया जाता था।

वहीं मृतक राजा ऋषिदेव के छोटे भाई आनंद कुमार ने बताया कि वह भी कश्मीर में अपने भाई के साथ काम करता था और दो माह पहले ही घर वापस आया। उन्होंने कहा कि काम कराए जाने के बावजूद समय पर न तो पैसे मिलते थे और ना ही भरपेट भोजन। उन्होंने घटना के दिन रविवार की दोपहर राजा के मां से वीडियो कॉल के माध्यम से बात होने की बात कही।

अररिया के दर्जनों कामगार हैं कश्मीर में

कश्मीर में आतंकियों की ओर से बिहारियों पर किए जा रहे हमले को लेकर वहां फंसे मज़दूर की सलामती के लिए दुआ कर रहे हैं। मिर्जापुर के नीलेश, श्याम, संजय, संजीत सहित कई कामगारों के कश्मीर में होने की बात कही जा रही है। रानीगंज से मिर्जापुर के अलावे बौसी,खैरुगंज,बनगामा सहित कई गांवों के दर्जनों कामगार कश्मीर में मजदूरी कर रहे हैं।

बता दें, रविवार शाम कश्मीर के कुलगाम के लारां गंजीपोरा में आतंकियों ने अररिया के दो मजदूरों की गोली मारकर हत्या कर दी थी और एक अन्य मजदूर घायल हो गया था, जिसका इलाज अनंतनाग मेडिकल कॉलेज अस्पताल में चल रहा है। मरने वालों की पहचान अररिया के रानीगंज के बौंसी थाना क्षेत्र के राजा ऋषिदेव और अररिया प्रखंड के बनगामा पंचायत के खेरूगंज के योगेन्द्र ऋषिदेव के रूप में हुई है।

गिरिराज सिंह ने कश्मीर में मारे गये व घायल मजदूर के परिजनों से मुलाकात की।
गिरिराज सिंह ने कश्मीर में मारे गये व घायल मजदूर के परिजनों से मुलाकात की।

गिरिराज सिंह ने मृतक के परिजनों को दी 5-5 लाख रुपए की मुआवजा राशि
इधर, भारत सरकार के सूक्ष्म लघु उद्यम राज्य मंत्री गिरिराज सिंह अररिया पहुंचे और कश्मीर में आतंकी हमले में मारे गये व घायल मजदूर के परिजनों से मुलाकात की। उन्होंने दोनों मृतक परिवार के आश्रित को 5-5 लाख रुपए की मुआवजा राशि दी। गिरिराज सिंह ने कश्मीर में गैर कश्मीरियों पर हो रहे हमले को लेकर कहा कि सरकार इस जघन्य अपराध का बदला लेगी, इसे पूरी दुनिया देखेगी। उन्होंने कश्मीर में गैर कश्मीरियों पर हो रहे हमले के पीछे पाकिस्तान की साजिश करार देते हुए कहा कि अपने परस्त आतंकी संगठनों के माध्यम से हमले करवा रहा है। पाकिस्तान को कश्मीर में अमन-चैन और शांति पसंद नहीं है, इसलिए वह षड्यंत्र रच रहा है।