अपील:43 नए मरीज मिले, डॉक्टर बोले- पेट खराब होने पर भी कोरोना, लक्षण दिखे तो जरूर कराएं जांच

बांका9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना जांच कराती महिला। - Dainik Bhaskar
कोरोना जांच कराती महिला।
  • 34 लोग हुए स्वस्थ, शहरी पीएचसी प्रभारी डॉ. सुनील चौधरी ने दी जरूरी जानकारी

जिले में गुरुवार को कोरोना के 43 नए मामले सामने आए। इसके साथ ही जिलेभर में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 345 हो गई है। मरीज धीरे-धीरे ठीक भी हो रहे हैं जिसमें 34 कोरोना मरीज ठीक हो चुके हैं। जिले में अभी भी एक्टिव मरीजों की संख्या 311 है। इस पर काबू पाने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने जांच अभियान को तेज कर दिया है। लोगों को थोड़ी से भी परेशानी होने पर कोरोना जांच की सलाह दी जा रही है। एंटीजन टेस्ट की रिपोर्ट तो तुरंत आ जाती है, लेकिन आरटीपीसीआर जांच की रिपोर्ट आने में थोड़ा समय लगता है। ऐसे में यह जरूरी हो जाता है कि जिनलोगों ने आरटीपीसीआर जांच के लिए सैंपल दिया है, वे लोग रिपोर्ट आने तक होम आइसोलेशन में ही रहें। शहरी पीएचीस प्रभारी डॉ. सुनील चौधरी ने कहा कि अगर किसी भी व्यक्ति में कोरोना के लक्षण दिखे तो उसे तत्काल जांच कराने के लिए आगे आना चाहिए। सर्दी, बुखार, बदन में दर्द, खांसी, गले में खराश की शिकायत हो ते तत्काल कोरोना जांच कराएं। पेट खराब होने पर कोरोना के शिकार लोग हो रहे हैं। इसलिए ये सब लक्षण दिखे जरूर अपनी कोरोना जांच कराएं।

कोरोना गाइडलाइन का पालन किया जाना जरूरी
डॉ. सुनील ने आगे बताया कि अभी के माहौल में सबसे जरूरी है, कोरोना की गाइडलाइन का पालन करना। घर से बाहर निकलते वक्त अनिवार्य तौर पर मास्क लगाएं। भीड़भाड़ में जाने से बचें और सामाजिक दूरी का पालन करते हुए एक-दूसरे के बीच दो गज की दूरी बनाए रखें। बाहर से घर आने पर 20 सेकेंड तक हाथ की धुलाई अवश्य करें। बेवजह घरों से बाहर निकलने से परहेज करें। जरूरी होने पर ही घरों से बाहर निकलें। घर में कोई संक्रमित व्यक्ति है तो उसका इलाज करवाएं और कोरोना गाइडलाइन का पालन करें।

खबरें और भी हैं...