हादसा:पत्नी और बेटे की मौत के बाद कमजोर शरीर नहीं दे रहा साथ, डूबने पहुंचे वृद्ध की बचाई जान

बांका/भागलपुर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डूबने से बचाए गए वृद्ध के साथ जीवन जागृति सोसाइटी के डॉ. अजय। - Dainik Bhaskar
डूबने से बचाए गए वृद्ध के साथ जीवन जागृति सोसाइटी के डॉ. अजय।
  • जीवन जागृति सोसाइटी के सहायता मित्र ने बचाई जान, पुरस्कृत

जीवन जागृति साेसाइटी के सहायता मित्राें ने शुक्रवार काे बरारी पुल घाट पर जान देने आए 65 वर्षीय वृद्ध विशेश्वर यादव काे बचा लिया। बांका के कटाेरिया के बाेकनवा गांव के बुजुर्ग ने बताया कि उसके एक बेटा और पत्नी की माैत हाे चुकी है। वह बाैंसी स्थित पपरवा में ससुराल में रह रहा था। हाथ-पैर में कमजाेरी और तनाव के चलते उसने जान देने की ठान ली। शाम छह बजे जब वह गंगा में डूबने की काेशिश कर रहा था, तभी मनीष मल्लाह ने उसे बचा लिया। साेसाइटी के अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार सिंह भी वहां पहुंचे और सहायता मित्र काे 500 रुपया पारितोषिक दिया। गंगा किनारे रहनेवाले मुन्ना ठाकुर ने विशेश्वर की मदद दी। डाॅ. सिंह ने वृद्ध काे अपने निजी क्लीनिक में लाकर प्राथमिक उपचार किया। उसे उसकी मर्जी से घर पहुंचा दिया जाएगा, नहीं ताे वृद्धाश्रम में रखने की व्यवस्था की जाएगी। फिलहाल उसे क्लीनिक में रखा गया है।

खबरें और भी हैं...