पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

शारदीय नवरात्र:सुबह 8.36 से 10.53 तक कलश स्थापना का शुभ मुहुर्त

बांका12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बाजार में चुनरी की खरीदारी करती महिलाएं।
  • नवरात्र काे लेकर बाजाराें में खरीदारी करने को उमड़ी भीड़, कोरोना के कारण सादगी

जिले में धूमधाम से दुर्गा पूजनोत्सव मनाने की श्रद्धालु ने तैयारी कर ली है। शनिवार काे मां दुर्गा के पहले स्वरूप माता शैलपुत्री की पूजा से शारदीय नवरात्र की शुरूआत हो जाएगी। पंडित शशिभूषण झा ने बताया कि इस बार शारदीय नवरात्र खास संयोग लेकर आ रहा है। शनिवार काे कलश स्थापना करने का शुभ मुहुर्त 8 बजकर 36 मिनट से 10 बजकर 53 मिनट बजे तक है। इस दाैरान घट स्थापना की जाएगी। सभी भक्तों को निष्ठावान होकर मां दुर्गा की पूजा-अर्चना एवं आराधना करने से रिद्धि-सिद्धि, सुख शांति एवं मानव जाति का कल्याण होगा। वहीं बाजार त्यौहार की रौनक से गुलजार हो उठा। व्रत व पूजन सामग्री की खरीदारी को बाजार में देर शाम भीड़ रही। शिवाजी चाैक पर जाम की स्थिति उत्पन्न हाेती रही। वही काेराेना संक्रमण को लेकर इस बार गृह विभाग के द्वारा गाइडलाइन जारी किया गया है जिसमें नियम के अनुसार पूजा मनाने का आदेश जारी किया गया है। जिसको लेकर श्रद्धालुओं में निराशा देखी जा रही है । दुर्गा पूजा में एक अलग ही उत्साह रहता है, लेकिन इस बार पर्व काे सादगी के साथ मनाया जाएगा।

नवरात्र के रंग में रंगा बाजार, ग्राहकों ने जमकर की खरीदारी

शुक्रवार को बाजार नवरात्र के रंग में रंगा नजर आया। शनिवार से शुरू हो रहे नवरात्र की तैयारियों के लिए ग्राहकों ने बाजार में जमकर खरीदारी की। शनिवार को नवरात्र शुरू हो रहे हैं। ऐसे में बाजार में माता रानी के लिए चुन्नी व अन्य श्रृंगार का सामान की खरीदारी जमकर हुई, जगह-जगह इसके लिए दुकानें सज गई हैं। बाजार गंज, कटरा नाज, मंडी चौक जैसे मुख्य बाजारों में छोटी-छोटी दुकानों पर माता रानी के लिए ग्राहक वस्त्र खरीदते नजर आए। वहीं दुकानों पर फलाहार की तैयारी के लिए भी मेवा व अन्य सामान की बिक्री हुई।

पूजा सामग्री की कीमत
सामान कीमत
चुनरी 10 से 20 रुपए
धूप 20 रुपए
मूर्त 10 से 15 रुपए
बत्ती 5 रुपए
जौ 10 रुपए पैकेट
कलश सेट 50 से 60 रुपए
धूपदानी 20 से 25 रुपए

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- चल रहा कोई पुराना विवाद आज आपसी सूझबूझ से हल हो जाएगा। जिससे रिश्ते दोबारा मधुर हो जाएंगे। अपनी पिछली गलतियों से सीख लेकर वर्तमान को सुधारने हेतु मनन करें और अपनी योजनाओं को क्रियान्वित करें।...

और पढ़ें