कभी माओवादियों का गढ़ था, अब टूरिस्ट स्पॉट बना ओढ़नी:प्री वेडिंग शूट के लिए भी हुआ मशहूर, डैम में वाटर स्कूटर की भी फैसिलिटी

बांका6 महीने पहले

बांका शहर से लगभग 12 किलोमीटर की दूरी पर ओढ़नी डैम के पास पर्यटकों का आना शुरू हो गया है। यहां प्री-वेडिंग शूट के लिए भी कई जोड़ी आ रहे हैं। वहीं, डैम में सैर के लिए वाटर स्कूटर की भी व्यवस्था की गई है। कभी यह जगह माओवादियों का गढ़ हुआ करता था। लोग यहां आने में डरते थे, लेकिन अब सैलानियों की भीड़ लगी रहती है।

पहाड़ी से बढ़ी खूबसूरती

ओढनी डैम के निकट में पहाड़ी पर महादेव और मां पार्वती का मंदिर क्षेत्र की सुंदरता को और भी निखारता है। डैम के तीनों तरफ पहाड़ी जो हर पर्यटकों का मन मोह लेता है। इन सबके अलावा मुंबई की कंपनी के माध्यम से डैम में बच्चे बुजुर्गों के लिए वोटिंग की अच्छी खासी सुविधा दी गई है। यहां हर दिन लगभग सैकड़ों सैलानी ओढनी डैम आते हैं। महिलाओं की सुरक्षा को लेकर गार्ड की भी व्यवस्था की गई है। यहां आए पर्यटकों का कहना है कि बिहार में ऐसी खूबसूरत जगह बहुत कम है। इस जगह को और भी विकसित करने की जरूरत है।

डैम घूमने के लिए बोटिंग की भी फैसिलिटी सैलानियों को मिल रही है।
डैम घूमने के लिए बोटिंग की भी फैसिलिटी सैलानियों को मिल रही है।
डैम के पास परिवार के साथ पहुंचे सैलानी।
डैम के पास परिवार के साथ पहुंचे सैलानी।

सैलानियों के लिए बन रहा होटल

डैम के ऊपर पहाड़ी पर पिकनिक के लिए बहुत ही खूबसूरत स्पार्ट है। यहां कई पर्यटक भोजन भी बनाते हैं। रात में भी यहां रुकने की व्यवस्था है। इसको लेकर होटल बनाने की प्रक्रिया शुरू की गई है। सरकारी अफसर और नेताओं के अलावा पर्यटक भी रुक सकेंगे। बांका DM शुहर्ष भगत ने डैम के आसपास के एरिया को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करवाने में अहम भूमिका रही है। रविवार को राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री रामसूरत राय भी डैम पहुंचे थे।

रिपोर्ट: विकास कुमार

खबरें और भी हैं...