पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बांका में 2 लाख रुपए दहेज के लिए जिंदा जलाया:आंखों के सामने तड़पती-बिलखती जलती रही पत्नी; नहीं पसीजा दिल, पति 4 महीने के बेटे के साथ फरार

बांका24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रियंका की फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रियंका की फाइल फोटो।

बांका में दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। यहां दहेज में दो लाख रुपए नहीं लाने पर ससुराल वालों ने महिला को जिंदा जला दिया। वह चीखती-तपड़ती रही। पति का दिल भी नहीं पसीजा। जब वह 90 प्रतिशत जल गई तो ससुराल वालों ने भागलपुर के मायागंज अस्पताल में उसे भर्ती करवा दिया। अस्पताल में उसकी मौत हो गई। बताया जाता है कि ससुराल वालों ने आग लगाने से पहले उसे जमकर पीटा भी था।

ससुराल वालों ने मायके वालों को खाना बनाने के दौरान झुलसने की झूठी कहानी सुना दी। मायके वाले अस्पताल पहुंचे तो ससुराल वाले मौके से फरार थे। घटना टाउन थाना क्षेत्र अंतर्गत बिशनपुर गांव की है। मौत के बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।

मृतका की पहचान मुंगेर जिला के संग्रामपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत रामपुर गांव की प्रियंका कुमारी के रूप में हुई है। उसकी शादी 15 महीने पहले ही हुई थी। इधर, परिजनों ने पति समेत 4 लोगों पर प्राथमिकी दर्ज कराई है। सूचना मिलते ही स्थानीय थाने की पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में कर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया।

मायागंज अस्पताल में प्रियंका के परिजन।
मायागंज अस्पताल में प्रियंका के परिजन।

प्रियंका के भाई सुमित कुमार ने बताया कि 15 माह पहले बिशनपुर गांव में निरंजन कुमार सिंह से प्रियंका की शादी हुई थी। लड़का पक्ष ने दहेज में जो भी मांग रखी थी, सभी सामान और पैसे उसे दिए गए थे। शादी के बाद प्रियंका को एक बेटा भी हुआ, जो अभी 4 माह का ही है। इसके बाद से पति के साथ ससुराल वाले 2 लाख रुपए अतिरिक्त दहेज के लिए उसे मारने-पीटने लगे। एक महीने पहले दोनों के बीच सुलह भी करवाई गई थी।

खाना बनाने के दौरान आग लगने की सुना दी कहानी

सोमवार को ससुराल वालों ने फिर दहेज के लिए प्रियंका के साथ मारपीट शुरू कर दी। पिटाई के बाद उसके शरीर में आग लगा दी। आग में बुरी तरह झुलसने के बाद उसे भागलपुर के मायागंज अस्पताल में भर्ती करवाया गया। डॉक्टरों ने बताया कि 90 प्रतिशत से अधिक बर्न है। इलाज के दौरान ही प्रियंका ने दम तोड़ दिया।

मौत के बाद ससुराल वालों ने मायके वालों को फोन किया कि प्रियंका खाना बनाने के दौरान आग में जल गई, जिसके बाद हम लोग अस्पताल ले आए। वह बच नहीं पाई। सूचना मिलते ही परिजन अस्पताल पहुंचे। वहां से ससुराल वाले फरार हो चुके थे। पति अपने 4 महीने के बेटे के साथ भाग चुका था। इसके बाद उन्होंने टाउन थाना में जाकर पति समेत 4 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है।

टाउन थानाध्यक्ष शंभूनाथ यादव ने बताया कि मृतक के परिजनों से प्राप्त आवेदन के आधार पर प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। शव को पोस्टमाॅर्टम कराने के लिए बांका सदर अस्पताल भेजा गया है। पोस्टमाॅर्टम कराने के बाद शव परिजनों को सुपुर्द कर दिया जाएगा। पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है। हालांकि सभी आरोपी घर छोड़कर फरार हो गए हैं। उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने छापेमारी शुरू कर दी है।

खबरें और भी हैं...