भक्ति:ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी का मतलब है आचरण करने वाली देवी : पंडित शशि भूषण

बांका16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पुरानी ठाकुरबाड़ी दुर्गा मंदिर में कलश स्थापन कर मां की पूजा करते पुजारी। - Dainik Bhaskar
पुरानी ठाकुरबाड़ी दुर्गा मंदिर में कलश स्थापन कर मां की पूजा करते पुजारी।
  • नवरात्रि के पहले दिन शहर से लेकर ग्रामीण इलाकों तक हुई कशल स्थापना
  • पुरानी ठाकुरबाड़ी में साल 2000 से विधि-विधान से हो रही मां दुर्गा की आराधना

शहर सहित प्रखंड क्षेत्र में श्रद्धालुओं ने गुरुवार से मां दुर्गा की पूजा-अर्चना की जा रही है। शहर के प्रमुख स्थानाें मे मां दुर्गा की प्रतिमा स्थापित कर पूजा-अर्चना की जाती है। वही शहर के पुरानी ठाकुरबाड़ी के समीप दुर्गा मंदिर में वर्ष 2000 से पूजा समिति द्वारा मां वैष्णवी की दुर्गा की प्रतिमा स्थापित कर पूजा की शुरूआत की गई थी। स्थापना काल में यहां मां दुर्गा का प्रतिमा का निर्माण पंडाल बनाकर किया जाता था। मंदिर के मेढ़पति अमर मिश्रा ने बताया कि पुरानी ठाकुरबाड़ी के समीप दुर्गा मंदिर में वर्ष 2000 से पूजा-अर्चना की जाती है। काेराेना गाइडलाइन के अनुसार मंदिर में पूजा अर्चना की जा रही है। मंदिर परिसर में 4 सीसीटीवी कैमरा लगे हुए जिससे निगरानी की जाती है। अष्टमी काे महाआरती के बाद खीर पुआ भाेग लगाया जाता है। जबकि नवमी काे कुंवारी कन्याओं काे दही चूड़ा का भाेग लगाकर उसका प्रसाद श्रद्धालुओं के बीच वतरण किया जाता है। नवरात्रि के दूसरे दिन यानि आज मां ब्रह्मचारिणी की पूजा होगी है। ब्रह्म का अर्थ है तपस्या व चारिणी का अर्थ है आचरण करने वाली देवी। मां के हाथों में अक्ष माला और कमंडल होता है। मां ब्रह्मचारिणी के पूजन से ज्ञान सदाचार लगन, एकाग्रता और संयम रखने की शक्ति प्राप्त होती है और व्यक्ति अपने कर्तव्य पथ से भटकता नहीं है। मां ब्रह्मचारिणी की भक्ति से लंबी आयु का वरदान प्राप्त होता है। पंडित शशि भूषण मिश्रा ने बताया कि मां ब्रह्मचारिणी की पूजा में मां को फूल, अक्षत, रोली, चंदन आदि अर्पण करें।

कलश स्थापन के साथ नवरात्रि प्रारंभ
चांदन | शारदीय नवरात्र का पर्व दुर्गा पूजा आज कलश स्थापना के साथ प्रारम्भ हो गया है। शारदीय नवरात्रि के प्रारंभ होते ही पूरा वातावरण भक्तिमय हो गया है। नवरात्रिि के मौके पर कलश स्थापन के साथ ही शक्ति की देवी जगत जननी मां दुर्गा भवानी के भक्ति में पूरा चांदन डूब गया है और मां दुर्गा के मंत्र एवं देवी गीतों से पूरे वातावरण गुंजायमान हो गया है । चांदन बाजार के पाण्डेय टोला स्थित सार्वजनिक दुर्गा मंदिर, पाण्डेयडीह स्थित दुर्गा मंदिर व बियाही मोड़ के दुर्गा मंदिर मे कलश स्थापना के साथ प्रखंड क्षेत्र में दशहरा का पर्व भक्तिमय वातावरण में शुरू हो गया, जो 15 अक्टूबर को विजयादशमी के साथ संपन्न हो जाएगा।

तिलडीहा दुर्गा मंदिर में नवरात्रि के पहले दिन उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़।
तिलडीहा दुर्गा मंदिर में नवरात्रि के पहले दिन उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़।

कलश स्थापना के साथ ही मंदिरों में पूजा-अर्चना शुरू

शंभूगंज| शंभूगंज प्रखंड के विभिन्न दुर्गा मंदिर में शारदीय नवरात्रिि को लेकर पूजा समिति ने सारी तैयारी पूरी कर गुरुवार को पूरे उत्साह के साथ कलश स्थापित की पूजा शुरू कर दिया गया। वहीं गुलानी, परमानंदपुर, प्रतापपुर, कसबा, मिर्जापुर आदि दुर्गा मंदिरों में प्रतिमा को अंतिम रूप देने में कलाकार भी युद्ध स्तर पर जुटे हैं। खासकर पंडाल निर्माण में मौसम का विशेष ध्यान रखा जा रहा है। नवरात्रि को लेकर श्रद्धालुओं में काफी उत्साह है। पूजा पंडाल सज-धज कर तैयार हो रहा है। मंदिर को बिजली की रंग बिरंगी लाइटों से भव्य रूप से सजाया गया है। गुरुवार की सुबह पहले नवरात्रि पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु देवी मां की पूजा-अर्चना किया। वहीं कलश स्थापना के बाद मंदिरों में दुर्गा सप्तर्षि पाठ व वैदिक मंत्रोच्चारण से यहां का वातावरण गुंजाईमान हो रहा है। शंभूगंज के सभी दुर्गा मंदिरों में पहुंचने वाले श्रद्धालुओं के लिए शारीरिक दूरी के साथ-साथ मास्क अनिवार्य है।

रजौन के 13 मंदिराें में शुरू हुई मां दुर्गा की पूजा
रजौन |
प्रखंड के 13 मंदिरों एवं घरों में कलश स्थापना के साथ गुरुवार से नवरात्र की शुरुआत हो गई है। प्रथम दिन गुरुवार को मां दुर्गा के स्वरूप शैलपुत्री की पूजा-अर्चना की गई। प्रखंड के चिलकावर, पुनसिया बाजार, पुनसिया बस्ती, रजौन, महादा, खिड्‌डी, रूपसा, सिंहनान, खरवा, रानीटीकर, मालती, मड़नी, मिर्जापुर दुर्गा मंदिर में कलश स्थापना के साथ पुजारियों द्वारा वैदिक मंत्रों के बीच पूजा अर्चना की गई। जिसको लेकर पूरा क्षेत्र भक्तिमय माहौल बना रहा। पहली पूजा को लेकर पूजन सामग्री और फल खरीदारों की भीड़ लगी रही। इधर नवरात्र को लेकर पूजा के सामानों की खरीदारी को लेकर शंभूगंज, कसबा, मिर्जापुर बाजार में लोगों की भीड़ लगी रही।

खबरें और भी हैं...