पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ब्लास्ट का आतंकी कनेक्शन!:मदरसा धमाके में देसी बम का इस्तेमाल, मौके से मिले कई कंटेनर के टुकड़े

बांका5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
घटनास्थल पर जांच करती एटीएस की टीम। - Dainik Bhaskar
घटनास्थल पर जांच करती एटीएस की टीम।
  • जांच के दौरान 1.65 लाख रुपए भी बरामद हुए, जिसे मौलाना ने अपनी बेटी के इलाज के लिए रखा था
  • नवटोलिया में बम धमाका मामले की तीन-तीन जांच एजेंसियों ने की जांच, एनआईए के भी आने की संभावना

नवटोलिया गांव में पिछले दो दिन पहले सुबह मदरसा में बम ब्लास्ट का मामला दो दिनों में पूरे देश में छा गया। जिसको लेकर इस ब्लास्ट का आतंकी कनेक्शन से भी जोड़कर देखा जाने लगा था, दो दिनों में तीन-तीन जांच एजेंसी के जांच के बाद गुरुवार की दोपहर इस ब्लास्ट के आतंकी कनेक्शन व आईडी ब्लास्ट को डीएम एसपी ने संयुक्त प्रेसवार्ता कर खारिज कर उठ रहे सवालों पर विराम लगा दिया है। डीएम सुहर्ष भगत व एसपी अरविंद कुमार गुप्ता ने इस ब्लास्ट को आतंकी कनेक्शन व आईडी ब्लास्ट को खारिज कर दिया।

डीएम व एसपी ने समाहरणालय स्थित मिनी सभागार में संयुक्त प्रेसवार्ता की। इस क्रम में डीएम ने बताया कि ब्लास्ट की हर एंगल से जांच की जा रही है। एटीएस, आईबी सहित लोकल पुलिस हर पहलू पर जांच कर रही है। अब तक के जांच में किसी प्रकार के आतंकी कनेक्शन नहीं पाया गया, हालांकि नूरी मस्जिद स्थित मदरसा रैयत जमीन पर चल रहा था। जिसका निबंधन भी नहीं था। जमीन मालिक बुधन मियां है और मदरसे का संस्थापक मो. फारूख है, जबकि मो. इदरिश अंसारी व मो. अहमद मदरसा के सदरस्य है। इधर एनआईए के आने की भी प्रबल संभावनाएं है। लेकिन पुलिस ने कोई पुख्ता बात नहीं कही जा रही है।

देसी बम के सुथली, कंचा कंटेनर का पार्ट मिले

एसपी ने बताया धमाका में देसी बम का इस्तेमाल हुआ है। एटीएस व अन्य एजेंसी द्वारा जांच चल रही है कि कितनी संख्या में बम कंटेनर के अंदर रखा गया था। बम मेंे किस-किस विस्फोटक का इस्तेमाल किया गया है, उसकी रिपोर्ट तैयार की जा रही है। घटना स्थल से देसी बम के सुथली, कंचा, कंटेनर का पार्ट सहित अन्य संदिग्ध वस्तु को बरामद किया गया है।

अज्ञात द्वारा पूर्व में रखा गया था कंटेनर में बम

एसपी ने बताया कि बम ब्लास्ट में मौलाना की मौत की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है, जिसमें बताया गया मौलाना के शरीर पर विस्फोटक के निशान नहीं है। मौलाना विस्फोटक से दूर थे और मदरसा के क्षतिग्रस्त हिस्से से जख्मी हुए थे। उसके शरीर पर कई जगहों पर चोट थी। उन्होंने बताया कि घटना स्थल से कंटेनर के टुकड़े मिले है और बम उसी में छिपा का रखा गया था।

गिरफ्तारी के डर से गांव के पुरुष अभी फरार

एसपी ने बताया कि पूर्व में हुए बम धमाके और मदरसा धमाका का कनेक्शन का मिलान किया जा रहा था। गांव के ज्यादातर पुरुष इसलिए फरार हो गए कि कई लोगों पर पूर्व के मामलों में प्राथमिकी दर्ज है। गिरफ्तारी के डर से सभी फरार हो गए है। जिस गाड़ी से मौलाना को मरने के बाद गांव में छोड़ दिया गया था, छानबीन में सफलता मिली है, वाहन चालक को गिरफ्तार होगा।

एटीएस, आईबी व पुलिस ने कई साक्ष्य इक्कठे किए

8 जून को मदरसे में ब्लास्ट के बाद एटीएस, आईबी व स्थानीय पुलिस ने कई साक्ष्य इक्कठे किए हैं। इसी क्रम में पुलिस ने घटना स्थल से 1 लाख 65 हजार रुपए बरामद किया है। एसपी ने बताया कि ग्रामीणों व मृतक के भाई मो. इकबाल द्वारा बताया गया है कि मौलाना के बेटी के दिल में छेद है, और उसी के इलाज के लिए 3 लाख रुपए जमा किया था। जिसमें से यह रुपए बरामद हुए हैं।

खबरें और भी हैं...