पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सुविधा:ई मार्केटिंग एप से किसानों के उत्पाद को मिलेगा बाजार

बांका12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कॉमन सर्विस सेंटर बांका। - Dainik Bhaskar
कॉमन सर्विस सेंटर बांका।
  • पंचायत स्तर पर डाटा किया जाएगा संग्रह, सीएससी के जरिये जुड़ सकते हैं इच्छुक किसान

कोरोना महामारी का दंश अब भी देश झेल रहा है। कोरोना की वजह से किसान भी आर्थिक तंगी से जूझ रहे है। ग्रामीण अर्थव्यवस्था को दुरूस्त करने के लिए गांव में एग्रीकल्चर और ई-कॉमर्स को बढ़ावा देने की पहल की जा रही है। इसके लिए केंद्र की ओर से बिहार के सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग विभाग को एक पत्र भी लिखा गया है। जिसके तहत गांव के उत्पाद को बाजार उपलब्ध कराने के लिए ई-कॉमर्स मंच विकसित करने को कहा गया है। इसके लिए एक ऐप को विकसित करने की योजना है। जो कॉमन सर्विस सेंटर के जरिए इच्छुक किसान और अन्य उद्योग धंधे से जुड़े उद्यमियों को एक सप्लाई चैन से जोड़ दिया जाएगा। इसमें ग्रामीण विकास विभाग और कृषि विभाग समेत अन्य विभाग की मदद ली जाएगी। इसके तहत गांव में स्वास्थ्य, शिक्षा,जीविकोपार्जन, दक्षता और डिजिटल ट्रेनिंग की सुविधा भी मुहैया कराने पर काम तेज किया जाएगा। ताकि गांव के किसान कृषि क्षेत्र के साथ टेक्नोलॉजी के दुनिया मे भी अग्रसर रहेगे। सीएससी के जिला प्रबंधक प्रियरंजन ने बताया कि सूचना और प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा जल्द ही ई मार्केटिंग ऐप को भी लांच किया जाएगा। हालांकि इस पर अभी काम चल रहा है। ऐप से कारोबारी को बढ़ावा देने के लिए कई तरह के उसमें फीचर भी शामिल रहेंगे इससे उत्पादकों को जोड़ा जाएगा। ई-कॉमर्स के कारोबार में पैकेजिंग पैकिंग भी अच्छे व्यवसाय का एक बड़ा हिस्सा है। गांव के लोगों को सेंटर पर पैकिंग का तरीका भी बताया जाएगा। हालांकि इसके लिए गांव के लोगों को सीएससी के माध्यम से प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। हर घर तक सामान पहुंचा सके इसके लिए जीविका दीदी और डाकघर की भी मदद ली जाएगी।

किसानों का डाटा किया जाएगा संग्रह
सीएससी के जिला प्रबंधक प्रियरंजन ने बताया कि विभाग द्वारा प्रदेश में इंफॉर्मेशन एंड फैसिलिटेशन सेंटर के स्थापना की जाएगी। इस सेंटर पर न सिर्फ कौशल विकास स्थानीय स्तर पर रोजगार के विकल्प होगें बल्कि हर्बल और औषधीय पौधे की खेती समेत अन्य तरह के प्रशिक्षण दिए जाएंगे। इसके अलावा गांव में बनने वाले सामान और हस्तलिपि को एक कॉमर्स कारोबार का रूप दिया जाएगा। डाकघर की मदद से घर-घर पहुंचाने की सुविधा दी जाएगी।

खबरें और भी हैं...