मकर संक्रांति:दही-चूड़ा खाकर लोगों ने मनाया मकर संक्रांति

बांका9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

प्रखंड क्षेत्र में मकर संक्रांति का त्यौहार बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। सुबह से ही बच्चे पूरे एवं अन्य लोग पूरे परिवार के साथ नदियों, तालाबों कूपो एवं अन्य पारंपरिक जल स्रोतों में स्नान कर तिल, गुड़, तिलवा एवं तिलकुट चढ़ाकर पूजा-अर्चना किया तथा सपरिवार दही, चूड़ा, लड़ुआ सहित उपरोक्त सामग्रियों का भोजन किया। बच्चों में इस त्यौहार के प्रति अलग ही उमंग था। इस कंनकनी ठंड में भी बच्चों ने अहले सुबह स्नान करना प्रारंभ कर दिया। बूढ़े बुजुर्गों ने जहां गर्म पानी कर स्नान किया वही नौजवानों ने इस दर्द भरी ठंड को मात देते हुए नदियों एवं तालाबों में स्नान किया। इस मौके पर अनेकों श्रद्धालुओं ने अपने नजदीकी शिवालयों एवं मंदिरों में पूजा अर्चना भी किया। कहा जाता है कि इस दिन स्नान कर गुड़ तिल वस्त्र आदि का चढ़ावा कर दान देने पर अनेकों पुण्य के फल प्राप्त होते हैं। हालांकि कई क्षेत्रों में मकर संक्रांति का त्यौहार 15 जनवरी को मनाया जाएगा। आज ही के दिन भगवान सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण में प्रवेश करते हैं इस लेकर भी आज का दिन एक महत्वपूर्ण दिन माना जाता है। हालांकि कोरोना की बढ़ती तीसरी लहर ने इस पर्व को फीका कर दिया। प्रखंड क्षेत्र में आज एवं कल के दिन लगने वाले मकर संक्रांति मेले पर ग्रहण लगा दिया जिससे लोगों में कम उत्साह देखी गई। हाट बाजारों में लोगों की उपस्थिति कम देखी गई।

खबरें और भी हैं...