• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • Banka
  • The Bank Manager, Who Returned To Duty Just 17 Days After The Corona Got Infected, Said Was Busy, Did Not Know When He Turned Negative From Positive

जन संकल्प से हारेगा कोरोना:कोरोना संक्रमित होने के मात्र 17 दिन बाद ड्यूटी पर लौटे बैंक मैनेजर कहा- व्यस्त रहा, पता ही नहीं चला कब पॉजिटिव से निगेटिव हो गया

राकेश कुमार यादव | कोरोना वॉरियर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राकेश कुमार यादव प्रबंधक इलाहाबाद बैंक ओरिया, प्रखंड रजौन - Dainik Bhaskar
राकेश कुमार यादव प्रबंधक इलाहाबाद बैंक ओरिया, प्रखंड रजौन
  • कोरोना संक्रमित होने के बाद भी अपनी इच्छाशक्ति से इस बीमारी को हराने वाले इलाहाबाद बैंक के प्रबंधक राकेश कुमार यादव ने कहा- घबराएं नहीं, सकारात्मक बातों पर दें ध्यान

10 अप्रैल से मेरी तबीयत खराब लग रही थी। सर्दी-खांसी के अलावा बुखार और बदनदर्द था। साधारण दवाएं लेने के बाद भी जब आराम नहीं हुआ तो मुझे कोरोना का डर समाने लगा। फिर परिजनों की सलाह पर 12 अप्रैल को मैंने कोरोना जांच कराई। जिसमें मेरी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद मेरे साथ-साथ मेरे परिवार के लोग भी घबरा गए थे। लेकिन फिर भी मैंने हिम्मत नहीं हारी। और मात्र 17 दिन में कोरोना को मात देकर अपने कर्तव्य पथ पर गुरुवार से बैंक का कामकाज संभाल लिया है। रजौन सीएचसी में कोरोना सैंपलिंग में 12 अप्रैल को मेरी जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। जिसके बाद से मैं होम क्वारेंटाइन में था। उसके बाद जांच में निगेटिव रिपोर्ट मिलने के साथ गुरुवार से बैंक पहुंचकर अपने कर्तव्यों का निर्वाह करना प्रारंभ कर दिया। जांच के बाद कोरोना पॉजिटिव पाये जाने पर मरीजों को कभी भी डरना नहीं चाहिए, मन में डर होने पर यह बीमारी और परेशान कर देता है। पॉजिटिव व्यक्तियों को घर में सुरक्षित तरीके से रहते हुए गर्म पानी, काढ़ा, हल्दी दूध का सेवन बराबर करते रहने के अलावे प्राणायाम, योगासन करते रहना चाहिए। पॉजिटिव होने के बाद घर पर रहते हुए टीवी कार्यक्रम और किताबंे पढ़ कर अपने आप को मनोरंजन करना चाहिए ताकि खुद में लगे कि हमें कोई बीमारी नहीं है। मन को दूसरी ओर लगाना करना चाहिए। मैंने खुद भी ऐसा किया और पता ही नहीं चला कि कब पॉजिटिव से निगेटिव हो गया। कैसे समय कट गया? पता ही नहीं चला, इसलिए लोगों को खुद से मनोरंजन वाली चीजें देखना और पढ़ना चाहिए - अनुलोम विलोम, पेट के बल पर गहरी श्वास, गायत्री मंत्र उच्चारण, घर में धूप धुमना जलाना, नीम गुरेज, तुलसी का काढ़ा का सेवन किया और दोनों समय भांप लेना चाहिए। ये सब कोरोना को हराने में काफी कारगर है। सबसे ज्यादा जरूरी है कि हिम्मत का बनाए रखना। यदि आप अपने आत्मबल को बनाए रखते हैं तो बीमारी भी आपका कुछ नहीं करेगा। मेरे पहचान में कई लोगों की कोरोना से मौत हुई है। लेकिन इसके बाद भी मैंने अपने हिम्मत को बनाए रखा। सकारात्मक सोच के साथ डॉक्टरों के बताए दवा का सेवन करता रहा। संतुलित भोजन और संयमित जीवन ही स्वस्थ जीवन का आधार है।

खबरें और भी हैं...