• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • Banka
  • The Mother Will Arrive On The Doli And Depart On The Elephant, The Auspicious Time For Setting Up The Urn Will Be Till 6.30 In The Morning And Then From 11.30 To 12.40 In The Afternoon.

नवरात्र आज से शुरू:डोली पर आगमन व हाथी पर प्रस्थान करेंगी माता, कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 6.30 तक फिर दाेपहर 11.30 से 12.40 बजे तक होगा

बांका20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में धूमधाम से दुर्गा पूजनोत्सव मनाने की श्रद्धालुओं ने तैयारी कर ली है। गुरुवार काे मां दुर्गा के पहले स्वरूप माता शैलपुत्री की पूजा अर्चना हाेगी। पंडित शशिकांत मिश्रा ने बताया कि कलश स्थापना का शुभ समय सुबह 6 बजकर 30 मिनट तक ही है। जिसके बाद दाेपहर 11 बजकर 30 मिनट सें 12 बजकर 40 मिनट तक है।

इस दाैरान घट स्थापना की जाएगी। सभी भक्तों को निष्ठावान होकर मां दुर्गा की पूजा-अर्चना एवं आराधना करने से रिद्धि-सिद्धि, सुख शांति एवं मानव जाति का कल्याण होगा। वहीं बाजार में त्यौहार की रौनक से गुलजार हो उठा। व्रत व पूजन सामग्री की खरीदारी को बाजार में बुधवार देर शाम भीड़ रही।

पूजा की खरीदारी के लिए बाजार में दिनभर रही चहल-पहल
बुधवार को बाजार नवरात्र के रंग में रंगा नजर आया। गुरुवार से शुरू हो रहे नवरात्र की तैयारियों के लिए ग्राहकों ने बाजार में जमकर खरीदारी की। नवरात्र काे लेकर बाजार में माता रानी के लिए चुन्नी व अन्य श्रृंगार के सामान की जमकर खरीददारी हुई, जगह-जगह इसके लिए दुकानें सज गई हैं। शिवाजी चाैक, डाेकानियां मार्केट, गांधी चाैक जैसे मुख्य बाजारों में छोटी-छोटी दुकानों पर माता रानी के लिए ग्राहक वस्त्र खरीदते नजर आए। वहीं दुकानों पर फलाहार की तैयारी के लिए भी मेवा व अन्य सामान की बिक्री हुई। फलों में केला और सेब की मांग बढ़ गई है।

राजनीतिक व व्यवसायिक उथल-पुथल होगी
पंडित शशिकांत मिश्रा ने बताया कि गुरुवार को कलश की स्थापना होना, आध्यात्मिक उन्नति का द्योतक माना गया है। माता दुर्गा का आगमन इस बार डोली पर हाेगा। जबकि मां दुर्गा हाथी पर प्रस्थान करेंगी। पंडित ने आगे कहा कि डोली पर भगवती का आना शुभ फलदायक नहीं है। डोली पर आने का प्रतिफल यह होगा कि राजनीतिक और व्यवसायिक उथल-पुथल की स्थिति बनेगी। हाथी पर आना शुभ माना जाता है लेकिन माता इस वर्ष हाथी पर विदा हो रही हैं जिसका प्रतिफल धन-धान्य की हानि होता है।

मेले के आयोजन पर लगाया गया रोक
वहीं, काेराेना संक्रमण को लेकर इस बार गृह विभाग के द्वारा गाइडलाइन जारी किया गया है जिसमें नियम के अनुसार पूजा मनाने का आदेश जारी किया गया है। जिसको लेकर इस बार भी श्रद्धालुओं में निराशा देखी जा रही है। इस बार मेला के आयाेजन पर राेक लगा दी गई है।

खबरें और भी हैं...