लापरवाही:कोरोना संक्रमण के बाद भी झरना मेला रहा गुलजार

फुल्लीडुमर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मकर संक्रांति के अवसर पर फुल्लीडुमर प्रखंड के सादपुर पंचायत अंतर्गत झरना में लगने वाला मेला इस बार भी गुलजार रहा। कोरोना संक्रमण के एहतियात के लिये सरकार के गाइड लाइन पर क्षेत्रीय लोगों की आस्था भारी पड़ी। कोरोना जैसी महामारी से बेपरवाह लोग हर वर्ष की तरह शुक्रवार को भारी संख्या में लोग पहुंचे थे। जहां झरना वन देवी मंदिर एवं विभिन्न देवी-देवताओं की पूजा अर्चना के पूर्व हजारों की संख्या में लोगों ने झरना कुंड में आस्था की डुबकी लगाई। पौराणिक मान्यता के अनुसार मकर संक्रांति के दिन झरना कुंड में स्नान करने से सभी तरह के चर्म रोग एवं शारीरिक व्याधि मिट जाती है। यही वजह है कि यहां मकर संक्रांति के दिन हजारों की संख्या में श्रद्धालु इस कुंड में स्नान कर मंदिर में पूजा-अर्चना करते हैं। जहां हिंदू एवं मुस्लिम धर्मावलंबी तथा आदिवासी समाज के लोग भारी संख्या में पहुंचते हैं। झरना मेला परिसर के पहाड़ी पर पीर मखदूम शाह का मजार है। जहां हर वर्ष दो दिनों का मेला लगता है।

खबरें और भी हैं...