कवायद:25 दिसंबर को गंगा पर बने रेल सह सड़क पुल के साथ ही घोरघट पुल का भी लोकार्पण

बरियारपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
घोरघट में मणी नदी पर बन रहे निर्माणाधीन पुल का निरीक्षण करते प्रधान सचिव, डीएम व अन्य। - Dainik Bhaskar
घोरघट में मणी नदी पर बन रहे निर्माणाधीन पुल का निरीक्षण करते प्रधान सचिव, डीएम व अन्य।
  • मुंगेर पहुंचे प्रधान सचिव ने घोरघट पुल का किया निरीक्षण, दिए निर्देश
  • वर्ष 2006 में ध्वस्त हुआ था मणि नदी पर बना पुल, बेली ब्रिज से हो रही आवाजाही

14 साल से अधर में लटके घोरघट पुल का लोकार्पण 25 दिसंबर को मुंगेर रेल सह सड़क पुल के दौरान ही किया जाएगा। जिसे लेकर प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत के साथ मुंगेर डीएम नवीन कुमार ने अधिकारियों के साथ स्थल का निरीक्षण किया। डीएम ने बताया कि मुंगेर रेल सह सड़क पुल के साथ ही घोरघट पुल का भी लोकार्पण 25 दिसंबर को किया जाएगा। जिसे लेकर प्रधान सचिव ने स्थल का निरीक्षण कर पुल निर्माण का कार्य जल्द पूर्ण करने को लेकर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। इस क्रम में प्रधान सचिव ने निर्माणाधीन घोरघट पुल का निरीक्षण किया एवं निरीक्षण के क्रम में ही पूल निर्माण निगम के अधिकारियों से आवश्यक जानकारी प्राप्त की। साथ ही आवश्यक दिशा निर्देश देते हुए समय सीमा के अंदर पुल निर्माण का कार्य पूर्ण करने का निर्देश दिया। पुल निर्माण निगम भागलपुर के वरीय परियोजना अभियंता ने बताया कि डेढ़ माह में पुल निर्माण पूर्ण कर लिया जाएगा। पुल निर्माण में बचे बेल कैप्शन, सब स्ट्रक्चर एवं सुपर स्ट्रक्चर का कार्य जोर-शोर से प्रारंभ कर दिया गया है। साथ ही दोनों और एप्रोच पथ का कार्य भी प्रारंभ कर दिया गया है।

एप्रोच पथ का काम 25 दिसंबर से पूर्व पूरा करने का निर्देश

पथ निर्माण विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने गुरुवार को एप्रोच पथ निर्माण कार्य का स्थलीय जायजा लिया। इस दौरान डीएम नवीन कुमार को उन्होंने कई दिशा-निर्देश दिये। वहीं निर्माण एजेंसी को निर्देश दिया कि 25 दिसंबर 2021 को गंगा पर बने सड़क पुल का लोकार्पण होना है इसलिए इसे पूर्व निर्माण कार्य को पूरा करने के लिए और अधिक रफ्तार देने की जरूरत है। गुरुवार की शाम लगभग 7:30 बजे अपर मुख्य सचिव राष्ट्रीय उच्च पथ 80 होते हुए बांक काली स्थान के समीप पहुंचे। जहां से वे निर्माणाधीन एप्रोच पथ पर चढ़े और निर्माण कार्य का जायजा लेते हुए नंदलालपुर स्थित दूध फैक्टरी के पास पहुंचे। घंटे तक रूक कर हो रहे निर्माण कार्य का जायजा लिया। उसके बाद वे सीधे चुरंबा कव्रिस्तान होते हुए चौखंडी स्कूल तक निर्माण कार्य के प्रगति का जायजा लिया। उन्होंने निर्माण एजेंसी के अधिकारी से कहा कि उनको किसी तरह का अवरोध नहीं आने दिया जायेगा। सिर्फ निर्माण कार्य को 25 दिसंबर से पहले ही पूर्ण किया जाय। उन्होंने कुछ स्थानों पर रूक कर एप्रोच पथ के बगल से गुजरने वाले मार्गों का भी अवलोकन किया। जिलाधिकारी को निर्देश दिया कि एप्रोच पथ के निर्माण कार्य की सतत समीक्षा व निगरानी करें

2012 में प्रारंभ हुआ नए पुल का निर्माण
वर्ष 2006 में घोरघट पुल ध्वस्त होने के बाद नए पुल का निर्माण कार्य मई 2012 में प्रारंभ किया गया। 9 करोड़ 74 लाख की लागत से 55 मीटर लंबे पुल का निर्माण कार्य वर्ष 2013 के अक्टूबर माह तक पूर्ण होना था। लेकिन भूमि अधिग्रहण के साथ-साथ अन्य तकनीकी कारणों से पुल निर्माण कार्य पूरा होने में काफी समय लगा।

2006 में धंस गया था घोरघट का पुल

घोरघट के समीप मणि नदी पर बना पुल 12 जुलाई 2006 को अचानक धंस गया था। उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पहली बार श्रावणी मेले का उद्घाटन करने सड़क मार्ग से सुल्तानगंज जा रहे थे। बाद में बेली ब्रिज का निर्माण हुआ था।

खबरें और भी हैं...