पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आक्रोश:बाढ़ राहत सामग्री और सहायता राशि नहीं मिलने से हरिणमार पंचायत की महिलाओं में आक्रोश

बरियारपुर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
विरोध जतातीं राहत राशि से वंचित हरिणमार की महिलाएं। - Dainik Bhaskar
विरोध जतातीं राहत राशि से वंचित हरिणमार की महिलाएं।
  • गंगा के उस पार है हरिणमार पंचायत, बाढ़ के कारण बुरी तरह हुआ था प्रभावित

प्रखंड के गंगा पार हरिणमार पंचायत के हंसु सिंह टोला गांव के महिलाओं में बाढ़ के दौरान किसी भी प्रकार की सरकारी सहायता नहीं मिलने एवं अब तक राहत राशि उपलब्ध नहीं होने से सरकारी तंत्र के प्रति आक्रोश है। गांव की महिलाओं ने आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि प्रखंड का गंगा पार पंचायत होने के कारण सरकारी सहायता का लाभ यहां तक पहुंच ही नहीं पाता है। वरीय अधिकारी भी जांच के लिए गंगा पर आना जरूरी नहीं समझते हैं। प्रशासनिक अधिकारी जिन जिम्मेवार व्यक्ति को सरकारी सहायता पहुंचाने की जिम्मेवारी देते हैं वह हम तक सरकारी सहायता पहुंचाने में असमर्थ है। ऐसे लोग अपने जान-पहचान वालों तक ही सरकारी सहायता पहुंचा कर अपने कार्य की इतिश्री समझ लेते हैं। गांव की महिला जानकी देवी, अनार देवी, विद्या देवी, लक्ष्मी देवी, जयमाला देवी, पिंकी देवी, मुन्नी देवी, सुनीता देवी, रुक्मणी देवी, रूबी देवी के साथ ग्रामीण पंकज सिंह, कैलाश सिंह, मनोज सिंह आदि ने बताया कि हम लोग पूरी तरह से बाढ़ से प्रभावित थे। लेकिन बाढ़ के दौरान सिर्फ प्रशासनिक स्तर पर सामुदायिक रसोई के तहत खाना उपलब्ध कराया गया। इसके अतिरिक्त किसी भी प्रकार की सरकारी सहायता बाढ के दौरान उपलब्ध नहीं कराई गई। आक्रोशित महिलाओं ने कहा कि हम बाढ़ पीड़ितों को अब तक राहत राशि तक उपलब्ध नहीं हो पाई है। गंगा पार पंचायत होने के कारण कोई वरीय अधिकारी हमारी सुधि लेने तक नहीं पहुंचते हैं। ना ही जनप्रतिनिधि ही हम पीड़ितों की सुधि ले रहे हैं। महिलाओं ने आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि अविलंब अगर हमें राहत राशि उपलब्ध नहीं कराई जाती है तो हम ग्रामीण महिलाएं आंदोलन के लिए बाध्य होंगे।

खबरें और भी हैं...