नवरात्रि:बड़ी दुर्गा कल्याणपुर के पंडाल में दिखेगा जयपुर के हवामहल का नजारा, कोलकाता से आए कारीगर

बरियारपुर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बंगाल के कारीगरों द्वारा बनाया जा रहा भव्य जयपुर का हवामहल। - Dainik Bhaskar
बंगाल के कारीगरों द्वारा बनाया जा रहा भव्य जयपुर का हवामहल।
  • 357 साल पुराना है कल्याणपुर बड़ी दुर्गा का इतिहास, मनोकामनाएं होती पूरी
  • माता को स्थापित करने में मुस्लिमों ने निभाई थी अपनी भूमिका
  • कोलकाता से मिट्टी लाकर बड़ी दुर्गा महारानी कल्याणपुर को किया गया था स्थापित

कल्याणपुर बड़ी दुर्गा महारानी मंदिर में जो भी श्रद्धालु सच्चे मन से आराधना कर मनोकामना मांगते हैं उनकी मनोकामना पूर्ण होती है। यहां मुंगेर जिला ही नहीं देश के विभिन्न प्रांतों से आए श्रद्धालु गुप्त दान देते हैं और प्रतिवर्ष माता के दर्शन करने कल्याणपुर दुर्गा मंदिर पहुंचते हैं। जिनके लिए पूजा समिति की ओर से सुरक्षा के व्यापक व्यवस्था की जाती है। प्रखंड से लगभग 5 किलोमीटर दूर कल्याणपुर में गंगा के पावन तट पर स्थापित बड़ी दुर्गा महारानी कल्याणपुर को 357 साल पूर्व बड़ी दुर्गा महारानी कोलकाता की मिट्टी लाकर स्थापित किया गया था। स्थानीय बुजुर्गों की माने तो मंदिर को छोड़ आसपास का पूरा इलाका उस वक्त मुस्लिमों का हुआ करता था। जब माता को यहां स्थापित किया गया तो स्थानीय मुस्लिमों का सहयोग काफी सराहनीय रहा था। यहां के मूर्ति का आकार भी बड़ी दुर्गा महारानी कोलकाता की ही होती है। नए मंदिर निर्माण के लिए 1998-99 में सचिव रहे सुधीर दुबे ने पूरे 40 दिन नए मंदिर निर्माण तक अन्य को त्याग कर गंगाजल और बेलपत्र के सहारे माता की कृपा से रहे। यूथ क्लब के सदस्यों ने बताया कि सांस्कृतिक कार्यक्रम रद्द होने के बाद स्थानीय लोगों में मायूसी देखने को मिल रही है। लेकिन इसके बदले भव्य पंडाल एवं सजावट को आकर्षक रूप दिया जा रहा है। दो दर्जन रोरण द्वार बनाए जा रहे हैं। पश्चिम बंगाल से आए कारीगरों के द्वारा बनाया जा रहा हवामहल के तर्ज पर पंडाल बन रहा है।

कोरोना को लेकर सभी कार्यक्रम रद्द
दुर्गा पूजा के दौरान नवमी और दशमी को भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन कर बॉलीवुड स्टार के द्वारा प्रस्तुति दी जाती है। लेकिन पिछले दो वर्ष से प्रशासनिक निर्देशानुसार कोरोना को लेकर सभी कार्यक्रम को रद्द करना पड़ा। आयोजन समिति के सचिव शशि रंजन दुबे, अध्यक्ष जनार्दन प्रसाद सिंह, कोषाध्यक्ष मृत्युंजय दुबे, नरेश प्रसाद जयसवाल, गुलाब कुमार, रंजीत सिंह, अनिल दुबे, सरपंच नंद कुमार दुबे, शैलेंद्र यादव के साथ यूथ क्लब के विवेक दुबे, अमित दुबे, पवन दुबे, विकास दुबे ने बताया कि प्रतिवर्ष तो हॉलीवुड स्टार अपनी प्रस्तुति दुर्गा मंदिर में दिया करते हैं।

कल्याणपुर स्थित बड़ी दुर्गा मंदिर में प्रतिमा का हो रहा निर्माण।
कल्याणपुर स्थित बड़ी दुर्गा मंदिर में प्रतिमा का हो रहा निर्माण।

कलश स्थापना से पूर्व निकाली गई कलश शोभा यात्रा

असरगंज| प्रखंड क्षेत्र में शारदीय नवरात्रा का त्योहार गुरुवार को मां भगवती की कलश स्थापना और पूजा-अर्चना के साथ शुरू हुआ। इस अवसर पर प्रखंड क्षेत्र स्थित सभी दुर्गा मंदिरों सहित क्षेत्र के श्रद्धालुओं ने अपने-अपने घरों में कलश स्थापना कर मां भगवती की पूजा अर्चना की। क्षेत्र के दुर्गा मंदिरों सहित अन्य श्रद्धालुओं के घरों में दुर्गा सप्तशती की पाठ एवं शंख और घड़ी घंट की आवाज से संपूर्ण क्षेत्र भक्तिमय हो उठा है। शारदीय नवरात्रि के अवसर पर मुख्य बाजार असरगंज स्थित सुरजूराम ठाकुरबाड़ी में मां दुर्गा की प्रतिमा स्थापित कर पूजा-अर्चना की जा रही है। वहीं डॉक्टर मंगलनाथ पाठक द्वारा श्रीमद् देवी भागवत ज्ञान यज्ञ का नौ दिवसीय पाठ भी किया जा रहा है। इसके पूर्व सुबह में ठाकुरबाड़ी से कलश शोभायात्रा झेत्र की कन्याओं एवं महिलाओं द्वारा मुख्य बाजार असरगंज में निकाली गई। कलश शोभायात्रा बनैली स्मृति दुर्गा मंदिर, मुख्य बाजार एवं विक्रमपुर दुर्गास्थान होते हुए कथा स्थल पर पहुंचा।

बरियारपुर के दुर्गा मंदिरों में कलश स्थापित
बरियारपुर| प्रखंड के विभिन्न दुर्गा मंदिरों में वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ विधि-विधान पूर्वक नवरात्रा का शुभारंभ करते हुए कलश स्थापना किया गया। दुर्गा मंदिरों में वैदिक मंत्रोच्चारण से किए जा रहे कलश स्थापना के साथ ही आसपास का माहौल भक्ति में देखा गया। दुर्गा मंदिरों के पूजा समितियों के द्वारा आस्था के साथ कलश को स्थापित कर नवरात्रा का शुभारंभ किया। बड़ी दुर्गा मंदिर बरियारपुर में पंडित मुकेश पाण्डेय, सर्व कल्याणी दुर्गा मंदिर बस स्टैंड बरियारपुर मैं अयोध्या से आए आचार्य के वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ यजमान राजेश कुमार के द्वारा नवरात्रा को लेकर कलश स्थापित किया। आचार्यों ने बताया कि कलश स्थापना पूरे विधि-विधान पूर्वक वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...