पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अभियान बसेरा कार्यक्रम:अभियान बसेरा के तहत 42 भूमिहीन परिवारों को डीएम ने सौंपा बासगीत पर्चा

बेलदौर25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पर्चा वितरण कार्यक्रम का उद्‌घाटन करते डीएम व अन्य अधिकारी। - Dainik Bhaskar
पर्चा वितरण कार्यक्रम का उद्‌घाटन करते डीएम व अन्य अधिकारी।
  • एनएच-107 के चौड़ीकरण में सड़क किनारे बसे महादलितों का उजड़ गया था आशियाना
  • भूमिहीन परिवारों को चिह्नित कर जांच रिपोर्ट समर्पित की गई थी
  • सड़क का निर्माण करानेे की बात भी कही

प्रखंड क्षेत्र के पीरनगरा गांव में बुधवार को अभियान बसेरा कार्यक्रम के तहत आयोजित शिविर में कुल 42 भूमिहीन परिवारों के बीच डीएम डॉ. आलोक रंजन घोष के द्वारा बासगीत पर्चा का वितरण किया गया। वहीं लंबे इंतजार के बाद पर्चा मिलने पर भूमिहीन परिवारों में काफी खुशी देखी गई। डीएम ने पर्चा प्राप्त करने वाले महादलित परिवारों को अपना-अपना घर बनाने की बात कही। इस मौके पर डीएम ने इन परिवारों को मूलभूत समस्या उपलब्ध करवाने के लिहाज से उक्त स्थल पर विद्यालय, आंगनबाड़ी केंद्र, सामुदायिक भवन व आवाजाही को लेकर पक्की सड़क का निर्माण करवाने की बात कही। ज्ञात हो कि एनएच-107 के चौड़ीकरण के दौरान सड़क पर बसे, इन महादलित परिवारों का घर नष्ट होने के बाद भूमिहीन महादलित परिवार जैसे-तैसे जिंदगी व्यतीत कर रहे थे। इस समस्या को देखते हुए स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ-साथ सामाजिक कार्यकर्ताओं ने अंचल प्रशासन से बासगीत पर्चा उपलब्ध करवाने की गुहार लगाई थी। जिसके बाद राजस्व कर्मचारी के द्वारा एनएच-107 के चौड़ीकरण के दौरान घर नष्ट होने वाले 42 भूमिहीन परिवारों को चिन्हित कर जांच रिपोर्ट समर्पित किया था। इसके बाद समारोह आयोजित कर डीएम ने प्रत्येक परिवार को चार- चार डिसमिल जमीन का बासगीत पर्चा सौंप कर बेघर हुए महादलितों की समस्या को समाप्त कर दिया। इस मौके पर एडीएम शत्रुजंय कुमार मिश्रा, वरीय उप समाहर्ता राजन कुमार, डीसीएलआर राहुल कुमार, बीडीओ शशिभूषण कुमार, सीओ अमित कुमार, मुखिया अनिल सिंह, गुलाब देवी, पैक्स अध्यक्ष रिंकेश यादव के अलावा अन्य ग्रामीण उपस्थित थे।

पंचायत सरकार भवन के नहीं बनने से परेशानी

महेशखूंट | ग्राम पंचायत का कार्य गांव में ही हो, इसके लिए राज्य सरकार ने प्रत्येक पंचायत में पंचायत सरकार भवन बनाने का निर्णय लिया था। ताकि पंचायत के लोगों को अपने काम के लिए प्रखंड या अनुमंडल कार्यालय का चक्कर नहीं लगाना पड़े। इधर कई वर्ष बीत जाने के बावजूद भी महेशखूंट थाना क्षेत्र के बहुसंख्यक पंचायतों में पंचायत सरकार भवन का निर्माण नहीं हो सका है। जो सरकार की उदासीनता को दर्शाता है। जबकि पंचायत सरकार भवन के नहीं बनने के कारण पंचायतवासियों को अपने आवश्यक कार्य के लिए प्रखंड एवं अनुमंडल कार्यालय का चक्कर लगाना पड़ता है। इतना ही नहीं काम के चक्कर में आने- जाने में एक बड़ी राशि खर्च करनी पड़ती है। जिससे पंचायत के लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। बताते चलें कि बीते वर्ष महेशखूंट पंचायत में पंचायत सरकार भवन के निर्माण को लेकर जिला प्रशासन से स्वीकृति भी मिली थी लेकिन यहां अबतक भवन के निर्माण का कार्य शुरू भी नहीं हुआ है।

खबरें और भी हैं...