पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आस्था पर पहरा:भगवान मधूसूदन की रथ यात्रा पर संशय

बौंसी24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अभी तक नहीं हुआ मंदिर का रंग-रोगन। - Dainik Bhaskar
अभी तक नहीं हुआ मंदिर का रंग-रोगन।
  • यात्रा में चार दिन शेष, शुक्रवार को होनी है न्यास समिति की बैठक

मंदार के प्रसिद्ध भगवान मधुसूदन की रथ यात्रा में मात्र चार दिन शेष रह गए हैं, लेकिन अब तक कोई तैयारी नहीं की गई है। ऐसे में कोरोना के कारण इस बार रथ यात्रा कार्यक्रम आयोजित होगा या नहीं इसपर संशय बरकरार है। जानकारी हो कि प्रत्येक साल आषाढ़ शुक्ल द्वितीया को भगवान मधुसूदन की शोभा यात्रा धूमधाम से निकाली जाती है जिसमें काफी संख्या में लोग पहुंचते हैं। इस एक दिवसीय आयोजन में विशाल मेला लगता है। भगवान का रथ मंदिर से निकलकर नगर भ्रमण पर निकलता है। लेकिन इस साल कोरोना संकट के वजह से मधुसूदन मंदिर समेत तमाम जगहों पर मंदिरों में ताला लटका हुआ है। इस भव्य आयोजन को लेकर किसी प्रकार की तैयारी प्रशासनीक स्तर पर अब तक नहीं की गई है। भगवान जिस रथ पर सवार होकर नगर भ्रमण पर निकलते हैं उस रथ की रंगाई-पुताई अब तक नहीं हो पाई है। प्रत्येक साल रथ यात्रा के पूर्व रथ का रंगरोगन कर उसकी साज-सज्जा की जाती थी जो इस बार नहीं हो पाई है। वहीं मंदिर से जुड़े आस्थावान श्रद्धालुओं में इस बात को लेकर जिज्ञासा बनी हुई है कि आखिर रथयात्रा का इस साल क्या होगा।

सरकारी आदेश का स्थानीय अधिकारी कर रहे इंतजार
प्रशासनिक स्तर पर यह कहा जा रहा है कि अब तक सरकारी दिशा निर्देश इस आयोजन को लेकर नहीं आया है। वहीं एक दिवसीय रथयात्रा मेला को लेकर अब तक सरकारी स्तर पर डाक नहीं हो पाया है। जबकि प्रत्येक वर्ष मंदिर में पूरे विधि-विधान से भगवान की पूजा सिर्फ पंडितों द्वारा की जाती है। मेला का आयोजन रद्द हो सकता है। सीओ विजय गुप्ता ने बताया कि रथ यात्रा को लेकर अब तक कोई सूचना नहीं मिली है। वैसे शुक्रवार को न्यास समिति की बैठक मंदार में रखी गई है।

खबरें और भी हैं...