पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पहल:बालू की बोरियां रख घाट को बनाया सुविधा जनक

चौसा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोराेना वायरस को लेकर छठ घाट पर आने वाले लोगों के बीच जागरूकता फैलाएंगे पूजा समिति के सदस्य

लोकआस्था के महापर्व छठ को लेकर चौसा प्रखण्ड में छठ की तैयारियां प्रारंभ हो गई हैं। गंगा नदी का जलस्तर बढ़ने के कारण गंगा के तट दलदली हो गए हैं, जिस कारण छठ घाट बनाने में परेशानी आ रही है। इस बीच, प्रशासन द्वारा बीते दिन प्रखण्ड के घाटों का निरीक्षण कर व्यवस्था दुरुस्त करने की बात कही गयी थी।लेकिन घाटों पर गुरुवार को प्रशासन की कोई तैयारी नही दिखी। छठ पूजा कि गंगा तट पर कई स्थानों पर दलदल होने के कारण परेशानी बढ़ी है परंतु छठ पूजा समितियों द्वारा महत्वपूर्ण घाटों के लिए अस्थायी पथ बनाए गया हैं।
रास्ते की साफ सफाई युद्धस्तर पर चल रहा है: उल्लेखनीय है कि इस साल छठ पर्व 18 नवम्बर को नहाय-खाय से शुरू हो गया है और 21 नवंबर को पारण के साथ समाप्त हो जाएगा। यह पर्व कार्तिक शुक्ल पक्ष की षष्टि को मनाया जाता है।जिसको लेकर विभिन्न समितियों द्वारा महादेवघाट और चौसा बारे मोड घाट,बाजार घाट,रानी घाट पर पर पहुंचाने वाले रास्ते की साफ सफाई व लाइटिंग की व्यवस्था युद्धस्तर पर किया जा रहा है।ताकि घाट पर पहुंचाने वाली व्रतियों को कोई कठिनाई न हो।

बालू की बोरिया रख घाट को किया दुरुस्त: अमर नवयुवक छात्र संघ छठ पूजा समिति द्वारा गंगा घाट स्थित गाद हटाकर उस पर बालू भरे बोरे डालकर रास्ता बनाया जा रहा है। गंगा के जलस्तर में कमी आने से काफी राहत मिली है। समिति के सदस्य धन जी चौबे एवं राजा चौबे ने बताया कि छठ महापर्व को लेकर व्रतियों को गंगा किनारे घाट पर कोई परेशानी नहीं हो, इसके मद्देनजर काम किया जा रहा है।

लाइट, टेंट के साथ व्रतियों के हर छोटी मोटी सुविधा की ख्याल रखते उसका व्यवस्था की गयीं। साथ ही बताया गया कि लोगो को कोरोना के प्रति जागरूक करते हुए। घाट पर मास्क वितरण का कार्य भी किया जायेगा। व्रतियों के आने से पहले घाट को सैनिटाइज भी किया जायेगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें