• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • Chausa
  • On The First Day Of Sharadiya Navratri, The Crowd Of Devotees Gathered At The Ganga Ghats For The Establishment Of The Kalash, No Administrative System

भक्तिमय हुआ माहौल:शारदीय नवरात्र के पहले दिन कलश स्थापना को ले गंगा घाटों पर उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़, नहीं रही प्रशासनिक व्यवस्था

चौसा18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

प्रखण्ड में दुर्गा पूजा कलश स्थापन को ले गुरुवार की अहले सुबह से ही महदेवा गंगा घाट पर स्नान के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं ने स्नान करके पूजा अर्चना कर कलश स्थापन के लिए गंगा जल लेकर अपने अपने पंडाल व घर के लिए प्रस्थान किये। जहां कई पूजा समितियों द्वारा भव्य कलश यात्रा गाजे बाजे के साथ निकाला गया।वही घाटों पर श्रद्धालुओं का तांता देर दोपहर तक लगा रहा।

जिसके कारण चौसा बक्सर रोड़ पर जाम लग गया।वाहने घण्टाें तक रेंगती नजर आयी। बता दे कि शारदीय नवरात्र का इंतजार हर भक्तों को होता है।यह भारतीय हिंदुओं के लिए बड़ा पर्व माना जाता है जिसमे नौ दिन लोग मां दुर्गा की नौ रूपों की पूजा बड़े ही धूमधाम से किया जाता है।जिसमे विभिन्न जगहों पर मेले का आयोजन किया जाता है।

वहीं दशमी को रावण बध के साथ ही यह त्यौहार समाप्त हो जाता है जिसके लिए श्रद्धालुओं को एक वर्ष इंतजार करना पड़ता है।गुरुवार को शारदीय नवरात्र प्रारम्भ होने के साथ ही अभिजीत मुहूर्त में कलश स्थापना के साथ है माता की प्रथम रूप का आव्हान के साथ पूजा पाठ धूम धाम से किया गया।

चौसा बक्सर मार्ग रहा जाम

श्रद्धालुओं की भीड़ को लेकर चौसा बक्सर मार्ग सुबह से ही जमा रहा ।सुबह से ही सभी वाहन स्टेट हाइवे पर रेंगते नजर आये।वाहनों में बैठे राहगीर हलकान होते रहे। सड़क के दोनों किनारे वाहन की लम्बी लाइन लगी रही।भीड़ को देखते हुए प्रशासन की ओर से सुरक्षा के दृष्टि से कोई व्यवस्था नही किया गया था।

आज प्रथम शैल पुत्री का किया गया आह्वान

आज कलश स्थापना के साथ ही नवरात्रा शुरू हो रहा है। इसकी तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है। मगर इस बार कोरोना गाइडलाइन के मुताबिक रावण बध व गंगा स्नान पर प्रशासन द्वारा रोक लगाया गया था।साथ लोगो को घरो में ही पूजा पाठ करने की अपील की गई थी।

साथ ही पूजा के दौरान डीजे बजाने पर प्रतिबंध था।लेकिन पूजा समितियों द्वारा कलश स्थापना के लिए धूमधाम के लिए रास्ता निकाल लिया गया था।समितियों द्वारा क्षेत्र के जाने माने बैंड बाजा के साथ गंगा स्नान के बाद भव्य कलश यात्रा निकाला गया।कलश स्थापना के साथ प्रथम माता शैलपुत्री का भक्तों ने आव्हान के साथ पूजा पाठ प्रारम्भ कर दिया गया।

खबरें और भी हैं...