पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हादसा:घर के बाहर गिरे तार में दौड़ रहा था करंट, चपेट में आया पति, बचाने गई पत्नी, दोनों की हुई मौत

चौथम8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हादसे के बाद शव के पास रोते-बिलखते परिजन और लगी लोगों की भीड़। - Dainik Bhaskar
हादसे के बाद शव के पास रोते-बिलखते परिजन और लगी लोगों की भीड़।
  • घर से बाहर पेशाब के लिए निकले थे 37 वर्षीय पिंटू, बचाने आई थी पत्नी, दोनों आए चपेट में
  • चाैथम थाना क्षेत्र के ब्रम्हा गांव की घटना, जिलाधिकारी ने दिया मुआवजा देने का आश्वासन

ब्रम्हा गांव में बुधवार को दोपहर बाद एक दर्दनाक हादसे में पति-पत्नी की करंट से झुलसकर मौत हो गई। जिसके बाद परिजनों एवं गांव के लोगों के बीच हाहाकार मच गई। मृत की पहचान ब्रम्हा गांव निवासी स्व. महेन्द्र यादव के पुत्र पिंटू कुमार यादव (37 वर्ष) और पिंटू की पत्नी टूना देवी (30 वर्ष) के रूप में की गई। हादसे के बाद ग्रामीणों की भीड़ मृतक के घर के बाहर जमा हो गई। वहीं स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंचकर कागजी प्रक्रिया पूरी करते हुए शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। देर शाम पोस्टमार्टम के बाद शव को परिजनों के हवाले कर दिया। इधर, इस घटना पर शोक जताते हुए डीएम डॉ. आलोक रंजन घोष ने मृतक के परिवार को हर संभव मदद देने का आश्वासन देने के साथ आपदा अनुदान कोष से मुआवजा राशि देने की बात कही। घटना के संबंध में मिल जानकारी के अनुसार मृतक पिंटू कुमार यादव के घर के बाहर बिजली के खंभे से कवरयुक्त एलटी तार टूटकर जमीन पर गिर गया था और उसमें करंट दौर रहा था, जिसकी जानकारी लोगों को नहीं थी। परिजनों के अनुसार पिंटू कई दिनों से बीमार थे, दोपहर बाद वे पेशाब करने के लिए अपने कमरे बाहर निकलकर दरवाजे पर गए तो घर के बाहर गिरे उस तार के चपेट में आ गए और जमीन पर गिर पड़े, पीछे आ रही पत्नी ने उन्हें गिरते देखा तो दौड़कर बचाने आ गई और वह भी करंट के चपेट में आ गई। जिससे मौके पर ही दोनों की दर्दनाक मौत हो गई। हादसे के बाद गांव में मातम का माहौल है।

बारिश के बाद टूटा होगा तार
बताते चलें कि घर के बाद बिजली के खंभे से टूटकर गिरा कवरयुक्त बिजली के तार में करंट दौर रहा था। जिससे हादसा हो गया। स्थानीय लोगों ने बताया कि सुबह बारिश के बाद संभवत: तार टूट गई होगी। लेकिन कवरयुक्त होने के बावजूद उसमें करंट दौर रहा था, ये आश्चर्य की बात है। लोगों ने इसके लिए बिजली विभाग को जिम्मेवार ठहराया है। लोगों ने कहा कि यदि बिजली का तार नहीं टूटा होता था हादसा नहीं होता।

4 बच्चों की भरण-पोषण की जिम्मेदारी अब 80 वर्षीय बूढ़ी दादी पर
मृतक पिंटू यादव भाई में अकेले थे, घर में पति-पत्नी और चार छोटे बच्चों के अलावा घर में उसकी 80 वर्षीय वृद्ध मां हैं। ऐसे में दोनों पति- पत्नी की अचानक मौत से चार छोटे- छोटे बच्चों का भरण-पोषण और देखभाल की जिम्मेदारी उसके 80 वर्षीय दादी पर आ गई है, जो खुद लाचार है। ऐसे में लोगों को ये चिंता सता रही है कि अब इन मासूम बच्चों का देखभाल कौन और कैसे करेगा।

लोगों ने जताया दुख | घटना की खबर मिलने पर पर मुखिया प्रतिनिधि नरेश प्रसाद बादल, भाजपा नेता सुधीर यादव, निरंजन सिंह ,सरपंच प्रतिनिधि ललन कुमार दर्जनों लोगों ने परिजनों को सांत्वना दी।

पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंपा शव, ग्रामीण कराएंगे दाह संस्कार
थानाध्यक्ष मुरारी कुमार ने बताया कि दोनों मृतक के शव का पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया गया है। इधर, ग्रामीणों ने बताया कि चार छोटे बच्चे हैं, जिनकी उम्र छह वर्ष से कम है। ऐसे में दाह संस्कार भी लोगों की मदद से ही किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...