पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बढ़ रहा है खतरा:भगवां व गौरिहार में भीड़ होने से संक्रमण फैला, नैगुवां-देवरा के लोगों की नाकाबंदी से काबू

छतरपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भगवां| कोरोना कर्फ्यू लागू होने के बावजूद लोग नहीं मान रहे। - Dainik Bhaskar
भगवां| कोरोना कर्फ्यू लागू होने के बावजूद लोग नहीं मान रहे।
  • प्रशासन की लगातार हिदायत, समझाइश के बावजूद लोग नहीं मान रहे हैं

कोरोना संक्रमण अब शहरों के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में भी तेजी से पहुंच रहा है। कोरोना कर्फ्यू लागू होने, प्रशासन की लगातार हिदायत, समझाइश के बावजूद लोग नहीं मान रहे हैं। जिससे वहां संक्रमण तेजी से फैल रहा है। वहीं जिन गांवों लोग स्वयं नियम बनाकर जनता कर्फ्यू का पालन कर रहे हैं वहां हालत काबू में हैं।

बड़ामलहरा जनपद के ग्राम भगवां में लापरवाही के संक्रमण बढ़ रहा है। लोग बाजार में और गली मोहल्लों में भीड़ लगाते हैं। फुटपाथ पर सब्जी आदि की दुकानों में अधिकांश लोगों के चेहरों पर मास्क नजर नहीं आता, यहां सोशल डिस्टेंस का पालन भी नहीं होता। इसी लापरवाही के कारण यहां अब तक 33 मरीज मिले हैं, जिनमें 9 स्वस्थ हो गए। एक सप्ताह में 15 संक्रमित मिले हैं, आज 24 एक्टिव मरीज हैं, सभी होम आइसोलेट हैं।

लवकुशनगर जनपद के हिनौता गांव में पूरा थाना स्टाफ ही संक्रमित हो गया। थाना प्रभारी सहित पूरे स्टाफ को होम आइसोलेट किया गया, थाने में नया स्टाफ तैनात किया गया है। पूरा थाना संक्रमित होने की बजह से पूरे गांव के लोग दहशत में हैं। हिनौता थाना प्रभारी संक्रमित पाए गए थे, इनके साथ ही 6 आरक्षक भी पाॅजिटिव पाए। गांव में 2 अन्य संक्रमित पाए गए। सभी होम क्वारंटीन हुए।

आलीपुरा: झुंड बनाकर निकलती हैं महिलाएं
नौगांव जनपद के सबसे बड़े गांव आलीपुरा में जमकर लापरवाही हो रही है। यहां सड़कों पर लोग बिना मास्क घूमते हैं। वहीं सबसे अधिक लापरवाही महिलाओं में देखी जाती है, रविवार दोपहर गांव के बाहर लगे हेंडपंप पर महिलाओं की भीड़ देखने को मिली। इन महिलाओं के चेहरों पर न तो मास्क था और न ही एक दूसरे से दूरी बनाए हुए थीं। इन पर शासन प्रशासन की समझाइश का कोई असर नहीं दिखाई देता। आलीपुरा गांव में 6 संक्रमित मरीज मिले हैं, सभी होम आइसोलेट हैं।

गौरिहार: बस स्टेंड पर दिन भर रहती है भीड़
गौरिहार का बस स्टेंड थाना और तहसील के बिलकुल पास है। प्रशासन द्वारा लगातार लोगों को जागरूक कर घरों में रहने की सलाह दी जाती है लेकिन इसके बावजूद बस स्टेंड पर पूरे दिन भीड़ रहती है। इस सप्ताह में यहां 10 पॉजिटिव मरीज निकले हैं। राजनगर जनपद के ग्राम बमीठा में 33 कोरोना पॉजिटिव मरीज निकले हैं। रविवार शाम करीब साढ़े 5 बजे जब भास्कर टीम ने गांव के मुहल्लों में जाकर देखा तो गलियों में लोग झुंड बनाकर खड़े हुए थे, कहीं कहीं पर कई लोग भीड़ लगाकर बैठे हुए गपशप करते दिखे।

ग्रामीणों ने खुद बाहर से आने वाले लोगों को रोका
जिले में अनेक गांव ऐसे भी हैं, जहां ग्रामीण जागरूक हैं, उन्होने खुद सावधानी वरती। कई गांवों में लोगों ने खुद नाकाबंदी कर ली। प्रमुख लोग ग्रामीणों को लगातार जागरूक करते हैं। जिसके सुखद परिणाम आए हैं।

महाराजपुर तहसील के नैगुवां में एक भी संक्रमित मरीज नहीं है। यहां के जागरूक ग्रामीणों ने खुद गांव के बाहर सीमाओं पर नाकाबंदी कर दी है। बृजेश तिवारी, शंभू दयाल रिछारिया, ओमप्रकाश पाठक कहते हैं कि नाकाबंदी करके गांव के लिए आना जाना बंद कर दिया गया है। बाहर से आने वालों को मनाही है, बहुत जरूरी होने पर पूछताछ के बाद उसे आने देते हैं लेकिन दूरी बनाकर रखते हैं। खुद ही गांव में सेनेटाइजेशन भी किया है।

ढिगपुरा: सरपंच की समझाइश पर घरों से नहीं निकलते लोग
नौगांव जनपद के ग्राम ढिगपुरा में लोगों की जागरूकता के चलते अब तक एक भी कोरोना मरीज नहीं मिला है। यहां लोग बेवजह घरों से नहीं निकलते। भास्कर टीम रविवार शाम चार बजे गांव पहुंची ताे गलियों में सन्नाटा पसरा हुआ था। लोग घरों के अंदर थे। सरपंच राम कुमार पाठक ने बताया कि वह अपने साथ मैयादीन यादव एवं अन्य लोगों को लेकर पूरे गांव में घूम कर कोरोना के बारे में समझाइश देते हैं। लोगों से घरों से नहीं निकलने के बारे में कहते हैं। पहले लोगों को हमारी बात कुछ अटपटी लगी फिर जब समाचारों में बढ़ते संक्रमण की जानकारी मिली तो लोग समझ गए और अब कोई बेवजह बाहर नहीं निकलता।

देवरा: जागरूकता के कारण गांव तक नहीं पहुंचा संक्रमण
बिजावर जनपद के देवरा गांव के लोग काफी जागरूक हैं, यहीं कारण है कि गांव में एक भी कोरोना मरीज नहीं है। भास्कर टीम शाम करीब पौने पांच बजे देवरा गांव पहुंची तो सभी लोग घरों के अंदर थे, गलियों में सन्नाटा था। गांव के भरत दुबे और भूपेंद्र पाठक ने बताया कि हम लोगों ने गांव की नाकाबंदी नहीं की। केवल बुद्धजीवियों द्वारा लोगों से संपर्क कर उन्हें समझाइश दी जा रही है। उनकी समझाइश पर लोग गाइड लाइन का पालन कर रहे हैं।

चौहानी: यहां बाहर से आने वालों से होती पूछताछ: जनपद पंचायत गौरिहार के चौहानी गांव काफी पिछड़ा है, लेकिन कोरोना महामारी को लेकर ग्रामीण काफी जागरूक हैं। लोगों ने न तो गांव में बैरीगेटिंग की और न ही कोई बोर्ड लगाया। इसके बावजूद जागरूकता के चलते आने जाने पर रोक है। रविवार दोपहर 3 बजे भास्कर टीम चौहानी पहुंची तो गांव में सन्नाटा था। गांव के रामबाबू पाल ने बताया कि कोरोना की दहशत लोगों के दिलो दिमाग में है।

इसलिए सबने एकजुट होकर इसे गांव में नहीं आने देने का संकल्प लिया। उन्होने बताया कि गांव में कोई भी बेवजह नहीं घूमता। बाहर से आने वालों से भी कड़ी पूछताछ की जाती है, इसके बाद ही जरूरी होने पर उसे अंदर प्रवेश दिया जाता है। इस लॉकडाउन में लोगों को राशन सामग्री की समस्या से जूझना पड़ता है, लेकिन एक दूसरे की मदद करते हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

    और पढ़ें