पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पंचायत चुनाव:सरकारी योजनाओं में गड़बड़ी का जवाब देना प्रत्याशियों के लिए होगी चुनौती

सुमित आनंद | धरहरा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पंचायत चुनाव को लेकर चौपाल में चर्चा करते गांव के बुजुर्ग। - Dainik Bhaskar
पंचायत चुनाव को लेकर चौपाल में चर्चा करते गांव के बुजुर्ग।
  • धररहार प्रखंड में पंचायत चुनाव को लेकर शुरू हुआ चौपाल का आयोजन

धरहरा प्रखंड में पंचायत चुनाव के छठे चरण में मतदाहन होना है। लेकिन यहां के ग्रामीण राजनीति अभी से गरमाने लगी है। इस बार यहां की जनता के पास प्रत्याशियों से पूछने के लिए सवाल भी हैं और वोट देने और नकराने के लिए वाजिब मुद्दे भी हैं। जिनका जवाब देना प्रत्याशियों के लिए आसान नहीं होगा। दरअसल, पंचायत चुनाव को लेकर ग्रामीण इलाकों में जगह-जगह पर चौपाल का आयोजन होने लगा है। जहां उम्मीदवारों के बारे में चर्चा तो हो रही है। साथ ही लोग क्षेत्र में पांच साल के दौरान जनप्रतिनिधियों द्वारा योजनाओं के क्रियान्वयन में की गई गड़बड़ी और भ्रष्टचार पर भी चर्चा हो रही है। चौपाल में लोग जीत-हार हार का समीकरण तो तय कर ही रहे हैं वे इसको लेकर एक दूसरे के साथ राजनैतिक बहस भी कर रहे हैं। इसके साथ ही जनता चौपाल में इस बार प्रत्याशियों सात निश्चय योजना के तहत नल-जल, गली-नाली जैसे महत्वकांक्षी योजनाओं में गड़बड़ी का लेखा-जोखा मांगने वाले हैं। वहीं जिन इलाके में अभी तक जलापूर्ति शुरू नहीं हो पाई है वहां जनता के बीच जाना कठिन होने वाला है।

योजनाओं में घोटाला युवाओं के लिए मुद्दा
चौपाल में शामिल युवाओं के लिए इस बार विकास योजनाओं में जप्रतिनिधियों द्वारा की जाने वाली गड़बडी व घोटाले बड़े मुद्दे है। दरअसल, वैसे जनप्रतिनिधि जो शौचालय निर्माण में 2000 रुपए प्रधानमंत्री आवास योजना में 20 से 25000 रुपए लेकर पक्का वालों को आवास योजना का लाभ दिलाया और गरीब जिनको रहने के लिए छत नहीं है आज भी वह फुस के घर में रहने को विवश हैं, वैसे लोगों को हम कभी मत नहीं देंगे। ग्रामीणों का कहना है कि अगर इसकी वरीय पदाधिकारी के द्वारा उच्च स्तरीय जांच हो तो और भी कई योजनाओं के खुलासे हो सकते हैं। वहीं महगामा पंचायत में मुखिया के द्वारा स्ट्रीट लाइट, गली नाली योजना सहित कई योजनाओं में अवैध राशि निकासी को लेकर लड़ैयाटाड़ थाने में केस हुआ था।

औड़ाबगीचा अतिसंवेदनशील बूथों में शामिल
प्रखंड के 13 पंचायतों में सबसे खास औड़ाबगीचा पंचायत में चुनाव होती है। इस पंचायत के कई बूथ अतिसंवेदनशील हैं। यहां पर वर्ष 2001 में चुनाव के दौरान अवैध रूप से मतदान करने को लेकर पुलिस और बदमाशों के बीच कई चक्र गोलियां भी चली थी। यहां कई दिग्गज अपना भाग्य आजमाने के लिए मैदान में उतरते हैं। यहां जीत का फैसला मात्र सौ से दो सौ मतों के बीच होता है। इस पंचायत में चर्चाएं आम है कि विगत 5 वर्षों में विकास के नाम पर लोगों को ठेंगा दिखाया गया है। पंचायत में चल रहे दर्जनों योजनाओं को आधा अधूरा छोड़ राशि की निकासी भी कर ली गई है नल जल का पाईप बिछाने को लेकर जहां-तहां सड़क में गड्ढे कर छोड़ दिए गए हैं।

खबरें और भी हैं...