जमुई में छठ पूजा की तैयारी:क्यूल नदी घाट की हो रही सफाई, घाटों पर व्रतियों की सुविधा के लिए पुख्ता इंतजाम

जमुई24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
क्यूल नदी घाट पर हो रही सफाई। - Dainik Bhaskar
क्यूल नदी घाट पर हो रही सफाई।

जमुई में शनिवार को क्यूल नदी घाट पर जेसीबी से नदियों की सफाई की गई। साथ ही छठ पूजा के लिए घाट बनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। पिछले दिनों जिलाधिकारी अवनीश कुमार ने जमुई के विभिन्न घाटों का निरीक्षण किया था। और अधिकारियों को कहा था कि घाटों की साफ-सफाई और सुरक्षा व्यवस्था पर विशेष ध्यान दिया जाए। तथा गहरे पानी की जगह पर बैरेकेटिंग की जाए। घाटों के पास चेंजिंग रूम शौचालय और पीने की पानी की व्यवस्था करने का निर्देश दिया था। वहीं, डीजे बजाने पर पूर्ण रोक लगाई की गई।

बढ़ा सूप-डाला का दाम
जमुई में शहरी-ग्रामीण इलाकों की सड़कों पर दुकानें सजने लगी है। बाजारों में सूप और डलिया खरीदने के लिए खरीदारों की भीड़ जुटने लगी है। पिछले साल की तुलना में इस साल सूप डाला की कीमतों में वृद्धि है। सूप डाला बनाने वाले नथुनी राम, सीता देवी ने कहा कि इस बार सूप और डाला की कीमत में बढ़ोतरी हुई है। उन्होंने बताया कि पिछले बार 150 से 200 रुपए तक दउरा डाला, छोटा डाला 150 से 180 तक और सुप 150 रुपए 120 तक बिकी। उन्होंने बताया कि इस बार बांस की कीमतों में अत्यधिक वृद्धि हुई है। इसलिए सूप-डलिया की कीमतों में पिछले साल की अपेक्षा इस बार 25-50 रुपए की बढ़ोतरी होगी।

इधर छठ पर्व को लेकर दूसरे राज्यों से अपने घर लौटने वालों के लिए स्टेशन परिसर में कोरोना जांच की व्यवस्था है। जांच के बाद लोगों का टीकाकरण भी किया जाएगा। जिसके लिए कोरोना टीकाकरण स्टॉल लगाया गया है। इधर, छठ पर्व को लेकर बाबा पत्नेश्वर स्थान क्यूल नदी घाट पर महिलाएं के हर एक हर दिन स्नान करने के लिए भीड़ लग रही है। इसके कारण सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।