पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कैसे हारेगा कोरोना:आवश्यक सेवा के लिए सुबह चार घंटे की छूट, इसमें भी लापरवाही बरत रहे व्यवसायी

जमुईएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सावधानी जरूरी: शहर के बीच खैरा मोड पर सब्जी मंडी में बिना मास्क पहुंचे लोग। - Dainik Bhaskar
सावधानी जरूरी: शहर के बीच खैरा मोड पर सब्जी मंडी में बिना मास्क पहुंचे लोग।
  • जब व्यवसायियों पर पुलिस बरसाती डंडे तो चेंबर ऑफ कॉमर्स करता है विरोध
  • लापवाही का नतीजा: गुरुवार को भी 361 नए पॉजिटिव मरीज मिले, फिर भी नहीं मान रहे लोग

कोरोना के बढ़ते संक्रमण को लेकर राज्य भर में 15 मई तक लॉकडाउन लगा है। ऐसे में कुछ छूट दी गई है, जिले में सुबह 7 बजे से 11 बजे तक आवश्यक वस्तुओं की दुकानों को खोलने की अनुमति मिली है। लेकिन इस दौरान दुकानदारों और ग्राहकों को सख्त हिदायत दी गई है कि मास्क और सैनिटाइजर के साथ सोशल डिस्टेंस का भी पालन करेंगे। ऐसा नहीं करने पर कार्रवाई होगी। जिले में हर दिन कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ रही है। गुरुवार को भी 361 नए पॉजिटिव मरीज मिले हैं। इसके बावजूद लोगाें की लापरवाही संक्रमण को बढ़ावा दे रहा है। सुबह के चार घंटे की छूट में बरती जा रही लापरवाही संक्रमण को बढ़ावा दे रही है। व्यवसायियों का सरकारी निर्देश का पालन नहीं करना यह बताता है कि उन्हें कोरोना संक्रमण के बढ़ने से कोई मतलब नहीं है। वे संक्रमण के प्रति जिम्मेवार नहीं बल्कि अपना रोजगार चलाने के लिए तैयार हैं। गुरुवार की सुबह शहर में जा स्थिति थी उससे ऐसा लग रहा था कि लॉकडाउन नाम की कोई चीज अब नहीं है। सुबह 7 बजे गैस एजेंसी के सामने खैरा मोड़ के पास थोक सब्जी मंडी में बिना मास्क के लोगों की भीड़ लगी थी। सभी बिना मास्क के एक दूसरे से सटकर बातें कर रहे थे और सब्जियों का मोलभाव कर रहे थे। भीड़ काफी ज्यादा थी। यह थाने से महज 500 मीटर की दूरी पर है फिर भी इस तरह की लापरवाही बरती जा रही है। सुबह का यह चार घंटा कोरोना विस्फोट के लिए काफी दिख रहा है।

डंडे बरसाने पर हम करेंगे विरोध: अध्यक्ष
दुकानदारों को रविवार की बंदी का निर्देश देने वाला चेंबर ऑफ कामर्स भी जिले में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को लेकर लापरवाह बना है। दिन के 11 बजे हर दिन पदाधिकारियों को सड़क पर उतरकर दुकानें बंद करानी पड़ रही है। चेंबर ऑफ काॅमर्स के विरोध के कारण जिला प्रशासन उन दुकानदारों पर खुलकर कार्रवाई नहीं कर पा रही है। जिला चेंबर आॅफ कामर्स के अध्यक्ष सुनील कुमार केशरी को इसमें व्यवसायियों की कोई गलती नहीं दिखती। उनका कहना है कि शादी विवाह का सीजन है, राज्य सरकार को शादी की अनुमति ही नहीं देनी चाहिए थी। ग्राहक दुकानदार पर दबाव बना रहे हैं इसलिए दुकानें खुल रही है। दुकानदार मजबूर है क्योंकि साल भर जो ग्राहक उनके पास से सामान लिया है उन्हें शादी के समय में कैसे न दें। चेंबर ऑफ कामर्स के अध्यक्ष ने कहा कि प्रशासन कार्रवाई करे, लेकिन डंडा बरसेगा तो वे विरोध के लिए सड़क पर उतरेंगे।

व्यवसायी नहीं मान रहे सरकारी आदेश
सुबह 7:30 बजे तक पूरा बाजार खुल चुका था। जरूरी सामान के अलावे महाराजगंज बाजार से थाना तक जाने वाली सड़क किनारे दोनों ओर सजी कई कपड़े, पेंट, बरतन, हार्डवेयर, मोबाइल आदि की दुकानें खुली थी। कुछ समय के बाद बोधवन तालाब, पोस्टऑफिस रोड़ आदि में भी एक एक कर सभी दुकानें खुलने लगी। प्रशासन ने सुबह 7 बजे से 11 बजे तक आवश्यक वस्तुओं की नहीं बल्कि सभी प्रकार की दुकानों को खोलने की इजाजत दे दी है। कई दुकान आधे शटर को उठाकर दुकानदारी कर रहे थे तो कई दुकानदार पूरा शटर खोलकर दुकानदारी करने में लगे थे। प्रशासन का कहना है कि चेंबर ऑफ कामर्स पुलिस के खिलाफ विरोध करने को उतारू होते हैं। लेकिन चेंबर ऑफ कामर्स के पदाधिकारी यह जवाब दें कि जिले में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के जिम्मेवार उनके व्यवसायी हैं या जिला प्रशासन।

आदेश नहीं माने तो होगी सख्त कार्रवाई
जिले में लाॅकडाउन के पालन के लिए मैं खुद निकल रही हूं। 11 बजे के बाद सभी दुकानें बंद कराई जा रही है। यदि आवश्यक वस्तुओं के अलावे भी दुकानें खुली मिली तो उनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। कई दुकानें सील की जा चुकी है। कार्रवाई होगी।
प्रतिभा रानी, एसडीओ, जमुई

खबरें और भी हैं...