• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • Jamui
  • The Amount Was Not Received, The Middlemen Also Took Out The Amount Of The Housing Scheme That Came To The Bank Account After Death, The Payment Made Fake From MNREGA

सरकारी योजना से मिलने वाले लाभ की हकीकत:जीते-जी नहीं मिली राशि, मरने के बाद बैंक खाते में आए आवास योजना की राशि भी निकाल लिए बिचौलिए, मनरेगा से फर्जी कराया भुगतान

मनीष कुमार/ धीरज सिंह।जमुई/बरहट2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अपने पुराने घर में पीड़ित लाभुक और महिला लाभुक का मृत्यु प्रमाण पत्र। - Dainik Bhaskar
अपने पुराने घर में पीड़ित लाभुक और महिला लाभुक का मृत्यु प्रमाण पत्र।
  • मरने के बाद भी मनरेगा में 86 दिनों तक काम करतीं दिखाई गईं हैं मृतका गीता देवी

सरकारी अधिकारी, बैंक व सीएसपी संचालक और बिचौलिए की मिलीभगत से बरहट प्रखंड में सरकारी योजना में व्यापक अनियमितता बरतने का मामला सामने आया है। यहां एक लाभुक को मरने के 86 दिन बाद पीएम आवास योजना का लाभ मिला साथ ही मरने के बाद भी 86 दिनों तक उक्त महिला को मनरेगा में मजदूरी करते हुए दिखाया गया और उसके खाते से पैसे की निकासी भी की गई है। इसे लेकर मृतका के पुत्र ने डीडीसी आरिफ अहसन को एक आवेदन देकर बरती गई अनियमितता और बिचौलिए के इस खेल के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है। बताया जाता है कि बरहट प्रखंड के बरहट पंचायत बांझी पियार गांव निवासी गीता देवी पति महेंद्र यादव की मौत 4 फरवरी 2020 को हो गई थी।

परिजनों ने ग्राहक के मौत की नहीं दी जानकारी: बैंक मैनेजर
मामले में एसबीआई खादीग्राम के बैंक मैनेजर संजीव कुमार ने बताया कि बिना बायोमेट्रिक के पैसे की निकासी नहीं की जा सकती है। मृतक के परिजनों ने अबतक उन्हें कोई जानकारी नहीं दी जिस कारण खाता बंद नहीं किया जा सका है। यदि मृतक के परिजन मृत्यु प्रमाणपत्र लाकर देते हैं तो त्वरित कार्रवाई करते हुए उक्त खाते को बंद कर दिया जाएगा।

सीएसपी संचालक पर अवैध निकासी का आरोप
फरवरी 2020 में गीता की मौत हो जाने के कारण योजना रद्द कर दी गई है, लेकिन एसबीआई खादीग्राम से संचालित सीएसपी भरकहुआ के संचालक प्रवीण कुमार यादव की मिलीभगत से मरने के बाद भी लगातार गीता देवी के खाते से 1 लाख 30 हजार रुपए की निकासी होती रही। वार्ड नंबर 3 निवासी श्री ठाकुर, सुभित राय के अलावा दर्जनों लोग आवास योजना के लिए चक्कर काट रहे हैं।

सीएसपी संचालक बोले- राशि निकालने की सूचना नहीं
मुखिया, मनरेगा पीओ व बिचौलिया की मिलीभगत से गीता देवी के मरने के बाद भी उसके नाम से मनरेगा जॉब कार्ड संख्या BH-50-003-001-04382600/3307 के द्वारा 86 दिनों तक मजदूरी करती रही और उक्त मजदूरी का पैसा भी गीता देवी के खाते से निकाल लिया गया। मामले में जब सीएसपी संचालक प्रवीण कुमार से बात की तो उन्होंने बताया कि इस तरह की जानकारी नहीं है।

अगर शिकायत मिलती है तो होगी कार्रवाई
इस तरह का मामला मेरे संज्ञान में अबतक नहीं आया है। यदि कोई शिकायत करता है तो जांच कर उचित कार्रवाई की जाएगी।
श्रवण कुमार, ग्रामीण विकास मंत्री

खबरें और भी हैं...