पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वारदात:युवक ने दोस्त के साथ मिलकर वैभव को बुलाया, शराब पिलाई और हत्या कर शव को बोरे में बंद कर फेंक दिया

जमुई/ झाझा20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बुधवार को नागी डैम स्थित घटना स्थल पहुंचकर जांच करते एसपी। - Dainik Bhaskar
बुधवार को नागी डैम स्थित घटना स्थल पहुंचकर जांच करते एसपी।
  • दोस्त के घर के बाथरूम में खुफिया कैमरा लगा वैभव ने बना लिया परिजनों का आपत्तिजनक वीडियो, दिखाकर कर रहा था ब्लैकमेल, इसलिए
  • दोस्त निकला हत्यारा: कॉल डिटेल की जांच के बाद पुलिस ने किया मामले का उद्भेदन, एसपी ने की घटनास्थल की जांच

18 जून से लापता झाझा के शिक्षक गणेश प्रसाद के पुत्र वैभव कुमार का मंगलवार की रात पुलिस ने शव बरामद किया। पिता से मृतक युवक के शव की पहचान भी कराई गई। पिता ने कपड़ों से वैभव की पहचान की और बताया कि शव वैभव का ही है। पुलिस ने इस मामले में हत्या के आरोप में वैभव के दो साथी को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। लगातार प्रयास के बाद भी झाझा पुलिस को वैभव का कुछ पता नहीं चल रहा था। ऐसे में मामले के उद्भेदन के लिए एसपी प्रमोद कुमार मंडल ने एसआईटी टीम का गठन किया और टीम मामले की जांच में जुट गई। लेकिन बिना टेक्निकल मदद के एसआईटी को भी इस मामले में कुछ ज्यादा हासिल नहीं हो सका। इसके मंगलवार को एसपी प्रमोद कुमार मंडल ने एसआईटी की मदद के लिए स्पेशल सेल को भी टीम में शामिल किया और टेक्निकल सेल की मदद से टीम ने तेजी से मामले की जांच शुरू की। परिजनों से पूछताछ के बाद वैभव व उसके दोस्तों का कॉल डिटेल खंगालना शुरू किया। जांच में 19 जून को अंतिम बार वैभव के मोबाइल का लोकेशन नागी डैम के पास का मिला। उसके बाद से वैभव का मोबाइल बंद ही पाया गया।

टीम ने वैभव के लास्ट लोकेशन से उसके साथी के लोकेशन को किया मैच
लापता वैभव के लास्ट लोकेशन के आधार पर जब उसके दोस्तों के मोबाइल का लोकेशन ट्रैस किया गया तो वैभव के दोस्त दिवाकर साव के मोबाइल का लास्ट लोकेशन घटना के दिन जब वैभव का मोबाइल बंद हुआ तब वहां पाया गया। शक की सूई दिवाकर साव की ओर इशारा की तब पुलिस ने दिवाकर को हिरासत में ले लिया। उससे कड़ी पूछताछ की गई तो दिवाकर ने बताया कि उसने वैभव की हत्या कर दी है और शव को एक बोरे में बंद कर पहाड़ के नीचे फेंक दिया है। पुलिस ने बताए स्थान से वैभव का शव सड़ी गली अवस्था में मंगलवार की देर रात बरामद कर लिया और उसकी पहचान मृतक के पिता गणेश प्रसाद से करवाई।

ब्लैकमेलिंग से परेशान हो गया था दिवाकर
पुलिस की कड़ी पूछताछ में आखिरकार दिवाकर टूट गया। एसपी प्रमोद कुमार मंडल ने इस मामले में बताया कि आरोपी से की गई कड़ी पूछताछ में यह सामने आया कि वैभव दिवाकर के घर के बाथरूम में खुफिया कैमरा लगा दिया था और उसकी मां, भाभी और घर की अन्य महिलाओं का स्नान करते वक्त आपत्तिजनक वीडियो रिकार्ड कर लिया था और उसी वीडियो को दिखाकर दिवाकर से एक लाख रुपये की मांग कर रहा था। काफी दिनों तक उसकी इस हरकत को बर्दास्त किए और उसे वीडियो डिलीट करने को कहा लेकिन वह नहीं कर रहा था। दिवाकर इससे परेशान होकर अपने एक मित्र सोनू साब जो वैभव का भी दोस्त था, उससे मिलकर वैभव की हत्या कर दी।

दिवाकर ने कहा-हत्या से पहले पिलाई थी शराब
पुलिसिया पूछताछ में दिवाकर साव ने बताया कि 18 जून को सोनू साव की मदद से वैभव को नगर पंचायत ऑफिस के पास से बाइक पर बिठाकर तीनों नागी डैम के पास गया। वहां दोनों ने पहले से प्लानिंग कर रखा था। बाइक की डिक्की में रस्सी और बोरा रखा था। नागी डैम पहुंचने के बाद तीनों मिलकर देसी शराब पी और वैभव को भी ज्यादा शराब पिला दी। शराब अधिक पीने से वैभव को होश नहीं रहा। तब सोनू के साथ मिलकर दिवाकर ने वैभव के गले में रस्सी बांधकर दोनों साथी मिलकर रस्सी को खींच कर उसकी हत्या कर दी। हत्या कर देने के बाद उसे बोरा में बंद कर पहाड़ के नीचे गिरा दिए। उसके बाद दोनों वैभव का मोबाइल लेकर लौट आए। दूसरे दिन उसके मोबाइल को तोड़कर रेलवे क्रॉसिंग के पास पानी के गड्ढे में फेंक दिया। पुलिस ने दिवाकर और साेनू साव को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। बता दें कि इस मामले में पूर्व में दो और लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था, मामले का उद्भेदन होने के बाद एसपी प्रमोद कुमार मंडल ने बताया कि उन दोनों अभियुक्त के संलिप्तता की जांच की जा रही है, यदि दोनों निर्दाेष पाये गए तो उन्हें छोड़ दिया जाएगा।

ब्लैकमेलिंग के कारण हुई वैभव की हत्या
वैभव अपने दोस्त के घर के बाथरूम में हिडन कैमरा लगाकर घर की महिलाओं का आपत्तिजनक वीडियो रिकॉर्ड कर ली थी। जिसे दिखाकर वैभव ब्लैकमेल कर रहा था। गिरफ्तार अभियुक्त ने इसी को लेकर घटना को अंजाम दिया है। पुलिस ने शव और मृतक का मोबाइल भी बरामद कर लिया है। बरामद मोबाइल को ईएमआई नंबर से पहचान की गई वह वैभव का ही है। पुलिस ने दोनों को जेल भेज दिया है। -प्रमोद कुमार मंडल, एसपी, जमुई

खबरें और भी हैं...