पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परेशानी:आंधी-बारिश से बिजली बाधित, 18 घंटे ब्लैक आउट

जमुई/ गिद्धौर/ सिकंदरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मुख्यालय सहित कई प्रखंडों में रात भर गुल रही बिजली, खैरमा- किऊल नदी स्थित मेन लाइन पर पेड़ गिरने से समस्या

बुधवार की देर शाम आई तेज आंधी और बारिश के बाद अचानक बिजली आपूर्ति बाधित हो गई। मुख्यालय सहित गिद्धौर और सिकंदरा प्रखंड में भी विद्युत आपूर्ति बाधित होने से लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। बता दें कि मुख्यालय में आंधी और बारिश के कारण खैरमा- किऊल नदी स्थित मेन लाइन पर पेड़ की टहनी टूटकर गिरने से शहर की विद्युत आपूर्ति रात भर बाधित रही जिससे शहरवासियों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। विद्युत विभाग के पदाधिकारी संजय कुमार ने बताया कि बुधवार की देर शाम तेज आंधी और मूसलाधार बारिश के कारण खैरमा किऊल नदी पर बने मेन लाइन के ऊपर पेड़ की टहनी गिर गई थी। जबकि शहर के शीतला कॉलोनी, सतगामा सहित दर्जनों जगहों पर मेन लाइन के तारों पर पेड़ की टहनी टूटने के कारण विद्युत आपूर्ति बंद रखनी पड़ी। गुरुवार की सुबह इसकी मरम्मति कर विद्युत आपूर्ति सुचारु रुप से चालू कर दी गई। आंधी और बारिश के कारण गिद्धौर 18 घंटे के लिए ब्लैक आउट हो गया। गिद्धौर के आठो पंचायत में बीते दिन मंगलवार और बुधवार को हुए तेज बारिश व आंधी की वजह से लगातार बिजली गुल रहने के कारण ग्रामीण क्षेत्रों में बने हर घर नल योजना की टंकी बंद रहने के कारण पेयजल की समस्या उत्पन्न हो गई। वहीं विद्युत उपभोक्ताओं को भी काफी परेशानी उठानी पड़ी। खास कर जिला प्रशासन द्वारा प्रखंड के महुली गांव में बने पार मेडिकल कॉलेज एवं नर्सिंग ट्रेनिंग सेंटर भवन में बनाए गए कोविड सेंटर में भर्ती कोविड संक्रमित मरीजों को विद्युत आपूर्ति बहाल नहीं रहने के कारण घोर कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। जेनरेटर से उन्हें किसी तरह बिजली की सुविधा उपलब्ध कराई जा सकी। गुरुवार की दोपहर लगभग एक बजे बिजली आपूर्ति शुरू की जा सकी। पिछले दो दिनों से बिजली विभाग की लापरवाही की वजह से परेशानी हो रही है।

परेशानी: सिकंदरा में भी 10 घंटे तक बिजली आपूर्ति बाधित
सिकंदरा प्रखंड में भी 10 घंटे तक बिजली आपूर्ति बाधित रही। बिजली आपूर्ति बाधित रहने से लोगों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। खासकर कई घरों में पानी की किल्लत हो गई। 10 घंटे के बाद बुधवार की रात्रि लगभग 12:30 बजे लोगों को बिजली मिली। उसके बाद गुरुवार की सुबह भी लगभग 3 घंटे तक बिजली आपूर्ति बाधित रही। बता दें कि लॉकडाउन रहने के कारण लोग अपने-अपने घरों में सुरक्षित है, तो वहीं बिजली गुल होने से घरों में रह रहे लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। बिजली विभाग की परंपरा रही है की हल्की सी भी बारिश होने के कारण घंटों बिजली आपूर्ति बाधित हो जाती है। कनीय अभियंता नरेश प्रसाद से बात करने पर उन्होंने बताया कि आंधी और बारिश के कारण 33 हजार वोल्ट की सप्लाई ब्रेकडाउन हो गई थी। बिजली आपूर्ति किया जा रहा था लेकिन बार-बार ट्रिप कर जाता था। रात्रि में पेट्रोलिंग के दौरान कई घंटों के बाद फॉल्ट को पकड़ा गया और मरम्मत कर बिजली आपूर्ति चालू की गई।

खबरें और भी हैं...