काली पूजा:हवन के साथ मां काली की हुई पूजा-अर्चना कन्या भोजन के बाद भंडारे में प्रसाद का किया वितरण

झाझा/ गिद्धौर21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
झाझा में हवन में शामिल श्रद्धालु। - Dainik Bhaskar
झाझा में हवन में शामिल श्रद्धालु।
  • सैकड़ों श्रद्धालुओं ने हवन कर मां काली की पूजा-अर्चना कर सुखमय जीवन की कामना की
  • श्रद्धालुओं ने रतनपुर व बंधोरा में मां काली का किया दर्शन

मुख्य बाजार थाना गेट के सामने स्थित श्रीश्री 108 काली मंदिर में 9 दिवसीय काली पूजा का समापन हवन पूजा के साथ शनिवार को संपन्न किया गया। इस दौरान अंतिम दिन मंदिर परिसर में भव्य हवन कार्यक्रम आयोजित किया गया जहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित होकर हवन करते हुए मां काली की पूजा-अर्चना कर सुखमय जीवन की कामना की। पूजा समिति के अध्यक्ष गोपाल पौद्दार, विजय अग्रहरी सदस्य, मदन वर्मा, रामोतार केशरी, डिब्लू वर्मा आदि ने बताया कि प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष भी 9 दिवसीय काली पूजा हर्षोल्लास के साथ हवन प्रक्रिया पूरी होने के बाद संपन्न किया। पूजा संपन्न होने के बाद कन्याकुंवारी भोज का आयोजन किया गया और महाभंडारा का आयोजन किया गया। महाभंडारा में बड़ी संख्या में लोग उपस्थित होकर महाप्रसाद ग्रहण किया। प्रखंड अंतर्गत रतनपुर पंचायत अंतर्गत दुर्गा मंदिर रतनपुर एवं मौरा पंचायत के बंधोरा गांव में मां काली की पूजा हर्षोल्लास एवं वैदिक मंत्रोचार के बीच विधि पूर्वक सम्पन्न किया गया। पूजा के बाद मंदिर में श्रद्धालुओं ने मां काली का दर्शन किया। रतनपुर काली पूजा के आयोजक ने बताया कि लगभग 61 वर्ष पूर्व एक अघोड़ी बाबा ने यहां इस पूजा की शुरुआत दीपावली की रात प्रतिमा स्थापित कर किया था। तभी से यह काली पूजा हमारे गांव रतनपुर में लोक परंपरा के अनुरूप यहां होता चला आ रहा है। लगभग 42 वर्षों से मां काली की प्रतिमा को स्थानीय मूर्तिकार सुदामापुर निवासी नुनदेव रविदास कर रहे हैं। वहीं बंधोरा ग्राम में भी ग्रामीण द्वारा गठित कमेटी द्वारा बीते 100 वर्षों से भी अधिक समय से मां काली की पूजा कराने की ग्रामीणों द्वारा परम्परा रही है।

रतनपुर में स्थापित मां काली की प्रतिमा
रतनपुर में स्थापित मां काली की प्रतिमा

भक्तों ने की मां काली प्रतिमाओं को बोधवन तालाब में किया विसर्जित

जमुई| जिला मुख्यालय के विभिन्न मंदिरों व पूजा पंडालों में स्थापित मां काली की प्रतिमाओं का विसर्जन शनिवार को धूमधाम से किया गया है। श्रद्धालुओं ने माता को विधि-विधान के अनुसार विदाई दी। शहर के महराजगंज के काली मंदिर परिसर में स्थापित मां काली प्रतिमा को श्रद्धालुओं द्वारा भक्ति भाव से नगर भ्रमण कराया गया। श्रद्धालु माता की प्रतिमा को महराजगंज, कचहरी चौक, जेल रोड व थाना चौक होते हुए बोधवन तालाव पहुंचे। जहां सैकड़ों श्रद्धालु व मां के भक्तों ने शामिल होकर बोधवन तलाब में प्रतिमा का विसर्जन किया । इस दौरान भक्तों ने मां काली प्रतिमा विसर्जन में ढोल बाजा के साथ मां की जय-जयकार कर रहे थे। वहीं नगर भ्रमण के दौरान सुरक्षा व्यवस्था के लेकर काफी संख्या में पुलिस बल भी साथ साथ चल रहे थे।

काली पूजा मेले में जगमग हुआ लछुआड़
सिकंदरा| काली पूजा के अवसर पर लगने वाले मेले में भगवान महावीर की धरती लछुआड़ लाइटों से जगमग हो उठा। लछुआड़ में काली पूजा मेले परिसर श्रद्धालुओं की भीड़ से पट गया। तीन दिवसीय मेले में शुक्रवार एवं शनिवार को श्रद्धालुओं की भीड़ इतनी थी कि लोगों को चलना मुश्किल हो रहा था। वहीं मेले में मनोरंजन के लिए एक से बढ़कर एक झूले तारा माची, ब्रेक डांस, नाव झूला, टोरा टोरा, कटघोरा, जादूगर एवं मौत के कुआं का लोगों ने लुत्फ उठाया। वहीं मेले में आने वाले श्रद्धालु मां काली के समक्ष लाइन में लगकर बारी-बारी से पूजा अर्चना किया। सुरक्षा व्यवस्था को लेकर थानाध्यक्ष जितेंद्र देव दीपक, अवर निरीक्षक विजेंद्र कुमार सिंह, सहायक अवर निरीक्षक लालबाबू महतो एवं अन्य पुलिस पदाधिकारी एवं महिला पुरुष जवानों के द्वारा मेले की निगरानी की जा रही है।

गंगा स्नान के लिए सिमरिया रवाना
सिकंदरा। मुख्य चौक जगदंबा मंदिर के समीप से मां जगदंबा मंदिर न्यास समिति के द्वारा लगभग एक दर्जन बस से छठ व्रतियों को गंगा स्नान के लिए सिमरिया मरांची घाट भेजा गया। पहले पंडित ललन मिश्रा एवं प्रवीण मिश्रा के द्वारा मां गंगा का आह्वान कर मंत्रोच्चारण की गई। जिसके बाद मंदिर कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष गुड्डू यादव, सचिव प्रकाश सिन्हा, कोषाध्यक्ष ललन मिश्रा के द्वारा हाथों में पताखा लेकर सभी बसों को रवाना किया गया। मंदिर कमेटी के सचिव प्रकाश सिन्हा ने बताया कि लोक आस्था का महापर्व छठ को लेकर सिकंदरा से सैकड़ों महिलाओं को गंगा स्नान के लिए मरांची घाट बसों से रवाना किया गया। उन्होंने कहा कि नवयुवक कार्यसमिति सिकंदरा एवं छठ पूजा शिवनाथी पोखर समिति के युवकों ने भी सहयोग किया है। वही इस दौरान मौके पर दशरथ यादव, राम प्रसाद राम, सुरेंद्र पंडित, रंजीत केशरी, कृष्णा चंद्रवंशी, श्रवण यादव, विजय गुप्ता, अनिल साव, श्रीचंद रजक, सहित दर्जनों की संख्या में मंदिर कमेटी के सदस्य एवं अन्य लोग शामिल थे।

खबरें और भी हैं...