निरीक्षण:घोघला कोल के लिए 6 एकड़ भूमि अधिग्रहण की मंजूरी

कजराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
घोघला कोल की तस्वीर। - Dainik Bhaskar
घोघला कोल की तस्वीर।
  • किसानों को जमीन का मुआवजा नहीं मिलने पर निर्माण कार्य पर लगाई गई थी रोक

कजरा क्षेत्र के किसानों को हर खेत को सींचने का सपना अब जल्द ही साकार होगा। इसे लेकर जल संसाधन विभाग के अधिकारियों ने कवायद तेज कर दी है। जल संसाधन विभाग के अधीक्षण अभियंता खड़गपुर ओम प्रकाश, सहायक अभियंता भोला सिंह ने कजरा क्षेत्र में हो रहे घोघला कोल निर्माण कार्य को किसानों द्वारा रोके जाने की जानकारी ली। इसके बाद अधीक्षण अभियंता ओम प्रकाश ने किसानों से मिलकर किसानों की समस्या से अवगत हुए। किसानों ने अधीक्षण अभियंता से शिकायत करते हुए किसानों ने कहा कि कई माह बीत जाने के बाद भी जमीन का मुआवजा नहीं मिला है। जिससे हम किसानों में असंतोष है। किसानों की समस्या सुनकर अधीक्षण अभियंता ओम प्रकाश ने कहा कि आप सभी किसान अपने जमीन का कागजात गंगा पंप नहर कार्य प्रमंडल मुंगेर कार्यपालक अभियंता के कार्यालय में जमा कर दें ताकि भुगतान की प्रक्रिया कर यथाशीघ्र शुरु कर सकें। अधीक्षण अभियंता द्वारा किसानों को आश्वासन के उपरान्त किसानों ने निर्माण कार्य प्रारंभ करने के लिए अपनी सहमति व्यक्त की। ज्ञात हो कि घोघला कोल के जीर्णोदार होने से लगभग 5000 एकड़ जमीन की सिंचाई होगी। 6 एकड़ जमीन अधिग्रहण कर रिंग बांध का किया जाएगा निर्माण कजरा पहाड़ से बरसात के दिनों में गिरने वाला पानी को जल संचय कर क्षेत्र के किसानों को सिंचाई की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। जल संसाधन विभाग के सहायक अभियंता भोला प्रसाद सिंह ने बताया कि कजरा क्षेत्र के घोघला नदी से निकलने वाली सभी शाखाओं और कोसुमा नदी का जीर्णोद्धार कराने के लिए श्रीकिशुन मौजा में कुल 12 एकड़ जमीन अधिग्रहण करने के लिए प्रस्ताव विभाग को भेजा गया था। घोघला कोल नदी में लिंक नदी का निर्माण के लिए लगभग 6 एकड़ रैयती जमीन का अधिग्रहण करने के लिए विभाग से स्वीकृति मिल चुकी है। किसानों ने बताया कि आज तक हम किसान सिंचाई के लिए आसमान की ओर निहारना पड़ता था लेकिन अब हम किसानों की उम्मीद जगी है कि जमीन का अधिग्रहण कर रिंग बांध का निर्माण होने से हर खेत को सिंचाई की सुविधा उपलब्ध होगी।

खबरें और भी हैं...