पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • Katihar
  • Accused Of Negligence, Death Of Mother child In Makhdampur APHC; The Doctor Said Lack Of Facilities In The Hospital, The Relatives Pressurized To Deliver If Referred

जिम्मेवार कौन ! डॉक्टर या परिजन:मखदमपुर एपीएचसी में जच्चा-बच्चा की मौत, लापरवाही का आरोप; डॉक्टर बोले अस्पताल में सुविधा की कमी, रेफर करने पर परिजनों ने प्रसव कराने का बनाया दबाव

कोढ़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मखदमपुर के विनोद सहनी की पत्नी ऊषा देवी को प्रसव के लिए सोमवार को कराया गया था भर्ती, हालत खराब होने पर रेफर के लिए तैैयार नहीं हुए परिजन

मखदमपुर उप स्वास्थ्य केंद्र में प्रसव के समय जच्चा-बच्चा की मौत हो गई। परिजन ने डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाया है। कोढ़ा प्रखंड के मखदमपुर पंचायत विनोद सहनी की पत्नी ऊषा देवी को बीते सोमवार को प्रसव पीड़ा हुई। विनोद सहनी ने बताया कि आनन-फानन में 500 फीट की दूरी पर बने मखदमपुर उप स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया। जहां पर एएनएम कामिनी देवी और मखदुमपुर उप स्वास्थ्य केंद्र के डॉक्टर जगदीश कुमार चौधरी के लापरवाही से प्रसव पीड़ा के दौरान जच्चा-बच्चा दोनों की मौत हो गई। जबकि अस्पताल के स्वास्थ्य कर्मी का कहना है कि मरीज की हालत पहले ही खराब थी। उसे रेफर किया जा रहा था। लेकिन वे जाने के लिए तैयार नहीं हुए और इलाज करने के लिए दबाव डालने लगे। जिसके बाद मजबूरी में इलाज करना पड़ा।

एएनएम ने बताया उप स्वास्थ्य केंद्र में प्रसव कराने की नहीं है सुविधा
मखदमपुर उप स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थापित एएनएम कामिनी कुमारी ने बताया कि प्रसव कराने आई महिला के साथ उनके परिजनों को बताया गया कि उप स्वास्थ्य केंद्र में वैसी सुविधा नहीं है। उसके बाद भी पीड़िता के पति ने लॉकडाउन का हवाला देकर विनती कर प्रसव कराने की जिद की। जिस कारण जच्चा-बच्चा की मौत हुई है। उप स्वास्थ्य केंद्र से बड़े केंद्र प्रखंड मुख्यालय के पास बने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भी अभी के समय में ऐसी कोई घटना आने के बाद उन्हें तुरंत कटिहार या पूर्णिया रेफर कर दिया जाता है।

ग्रामीणों का आरोप अस्पताल नहीं आते चिकित्सक
मखदमपुर व पवई के कई ग्रामीण बताते हैं कि मखदमपुर पंचायत में अवस्थित उप स्वास्थ्य केंद्र की स्थिति वर्षों से बहुत ही खराब है। यहां पर पदस्थापित डॉक्टर जगदीश कुमार चौधरी अपना निजी क्लीनिक खोलकर कोढ़ा हॉस्पिटल के पीछे ही रहते हैं। महीने में एक-दो बार आकर हॉस्पिटल में सिर्फ हाजरी बना कर चले जाते हैं। कोरोना काल जैसे भयानक स्थिति में भी हॉस्पिटल में किसी प्रकार की सुविधा नहीं है। यहां पर इस तरह की की घटना होना आम बात हो गई है। हालांकि कुछ ग्रामीणों का कहना यह भी है कि यहां पर जितने भी डॉक्टर हैं कोई 15 साल कोई 10 साल से जमे हुए हैं। प्रखंड चिकित्सा पदाधिकारी अजय कुमार सिंह से जब दूरभाष से संपर्क करने की कोशिश की गई तो संपर्क नहीं हो सका और न ही अस्पताल में मिले।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें