पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लापरवाही:बंद अस्पताल बना जुआरियों व असामाजिक तत्वों का अड्डा

मनसाहीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रखंड के हफलागंज में स्थित अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सरकारी तंत्र की उपेक्षा का दंश झेल रहा है। ऊपर से चिक चाक दिखने वाले इस भवन में ना तो डॉक्टर है ना नर्स और ना ही दवा। ऐसे में इस अस्पताल से रोगी को नहीं बल्कि खुद अस्पताल को इलाज की जरूरत है। करोना काल के बावजूद भी हफलागंज के लोगों को स्वास्थ्य केंद्र के माध्यम से न तो वैक्सीनेशन और ना ही कोरोना जांच की सुविधा अब तक मिल सकी है। गांव से जांच केंद्र दूर होने के कारण अभी कई लोग वैक्सीनेशन और कोरोना जांच करवाने से मरहूम ही दिख रहे हैं। अस्पताल के बंद रहने से रोगियों को झोलाछाप डॉक्टरों के भरोसे अपना इलाज करना पड़ता है। उपेक्षा के दंश झेल रहे यह अस्पताल वर्तमान में जुआरियों एवं असामाजिक तत्व का अड्डा बना हुआ है। अस्पताल के चारों ओर गंदगी ही गंदगी इसकी पहचान बनी हुई है। ग्रामीण झापड़ ततमा, किशोर गुप्ता, राजीव कुमार, मो इसराइल नरेश यादव, सुशील शर्मा आदि ने बताया कि गांव में सिर्फ वोट लेने के लिए नाम का अस्पताल बना है। लेकिन सुविधा के नाम अाजतक कुछ नही मिला है।

खबरें और भी हैं...