पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

तैयारी:12 जुलाई से जनता दरबार, फरियादियों को लाने और ले जाने की व्यवस्था रहेगी

कटिहारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बुधवार को बैठक में शामिल डीएम व अन्य अधिकारी। - Dainik Bhaskar
बुधवार को बैठक में शामिल डीएम व अन्य अधिकारी।
  • डीएम उदयन मिश्रा ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से की समीक्षा बैठक
  • कार्यक्रम में शामिल होने के लिए मोबाइल एप से आवेदन करना है

12 जुलाई से शुरू हो रहे जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम, कोविड टीकाकरण, बाढ़ नियंत्रण एवं ग्राम परिवहन योजना सहित अन्य बिंदुओं को लेकर डीएम उदयन मिश्रा ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक कर समीक्षा की। समीक्षा के क्रम में डीएम ने अधिकारियों को कई दिशा निर्देश भी दिए। समीक्षा बैठक में डीएम उदयन मिश्रा ने कहा कि 12 जुलाई से शुरू हो रहे जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम में सम्मिलित होने के लिए मोबाइल एप के माध्यम से आवेदन दिए जा सकेंगे। साथ ही जिला प्रशासन परिवादियों को लाने व ले जाने के लिए व्यवस्था करेगी। डीएम ने पूर्व से लंबित सभी मामलों का जल्द निवारण करने का निर्देश दिया। डीएम ने कहा कि परिवादियों के लिए कोविड टीकाकरण एवं जांच की भी व्यवस्था की जाएगी। डीएम उदयन मिश्रा ने कहा कि कटिहार में कोविड-19 शहरी टीका एक्सप्रेस से अत्याधिक व्यक्तियों को टीकाकृत किया जा रहा है। टीकाकरण में कटिहार लगातार बिहार के टॉप 3 जिलों में रहा है। डीएम ने सभी नगर निकाय के अंतर्गत रहने वाले व्यक्तियों का टीकाकरण मिशन मोड में पूरा करने का निर्देश दिया। डीएम ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में टीकाकरण यथावत जारी रहेगा। 9 जुलाई को कैंप मोड में नगर निकाय के छूटे हुए सभी व्यस्कों का टीकाकरण किया जाएगा। डीएम ने कहा कि जनप्रतिनिधियों एवं एनजीओ आदि के सक्रिय सहयोग और सहभागिता से सभी क्षेत्र को टीकाकरण से परिपूर्ण करने का काम करना है। इसमें जो भी वार्ड प्रतिनिधि सबसे आगे बढ़कर अपने वार्ड में टीकाकरण का कार्य पूरा करवाएंगे उनको स्वतंत्रता दिवस पर जिला प्रशासन द्वारा सम्मानित किया जाएगा। डीएम ने कहा कि टीकाकृत व्यक्तियों को ही सरकारी कार्यालयों में प्रवेश की अनुमति होगी। सभी सरकारी कार्यालयों में आगंतुकों के लिए टीकाकरण एवं थर्मल स्कैनिंग की व्यवस्था की जाएगी। डीएम ने बाढ़ के संबंध में अनुमंडल वार समीक्षा की। नदियों के जलस्तर की समीक्षा करते हुए कहा कि सरकार द्वारा तय मानक के अनुसार बाढ़ से संबंधित तैयारियां की जा चुकी है। डीएम ने सभी अनुमंडल पदाधिकारी और सीओ को तटबंध की सतत निगरानी करने का निर्देश दिया।

खबरें और भी हैं...