पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

खतरनाक :24 घंटे में महानंदा के जलस्तर में 11 सेमी की कमी, खतरे के निशान से 35 सेमी ऊपर बह रही

कटिहार टीम15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • शिवगंज डायवर्सन व अमदाबाद का भ्रमण कर डीएम ने बाढ़ की स्थिति का लिया जायजा
  • निचले इलाके में बाढ़ का मंडराने लगा खतरा, बढ़ी ग्रामीणों की परेशानी
Advertisement
Advertisement

महानंदा, गंगा, कोसी, बरंडी व सहायक नदी रीगा के जलस्तर में लगातार वृद्धि के साथ ही बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। पिछले चौबीस घंटे में झौआ में महानंदा के जलस्तर में 11 सेमी की कमी आई है। लेकिन अभी  भी महानंदा नदी खतरे के निशान से 35 सेमी ऊपर बह रही है। फिलहाल जिले के कदवा आजमनगर, प्राणपुर व बलरामपुर प्रखंड के कुछ हिस्सों में बाढ़ की स्थिति बरकरार है। मंगलवार को डीएम के तनुज ने कदवा के शिवगंज डायवर्सन व अमदाबाद क्षेत्रों का भ्रमण कर बाढ़ की स्थिति का जायजा लिए। डीएम ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए प्रभावित क्षेत्रों में पर्याप्त मात्रा में नाव परिचालन का निर्देश देने के साथ ही बाढ़ नियंत्रण के अभियंता व सभी अधिकारियों को  अलर्ट मोड में रहने काे कहा।  डीएम का कहना है कि प्रशासन बाढ़ से निपटने को लेकर पूरी तरह से तैयार है।

स्पर-15 और रिंग बांध में दबाव 
महानंदा में लगातार हो रही जलवृद्धि से बाहरखाल के स्पर संख्या 15 सहित आजमनगर का रिंग बांध भी पानी के काफी दबाव में है। कार्यपालक अभियंता सच्चिदानंद शाह दल- बल के साथ बांध की निगरानी कर रहे हैं। कन्हरिया गांव की करीब 500 की आबादी को चचरी पुल के सहारे आवागमन करना पड़ता है। 

बलरामपुर : सड़कें ध्वस्त 
बलरामपुर प्रखंड से तेलता ओपी जाने वाले रास्ते में डटियन गांव के समीप मुख्य सड़क का डायवर्सन महानंदा की सहायक सुधानी नदी के बाढ़ के पानी में बह गया। 2017 की भीषण बाढ़ में डटियन गांव के समीप पुल बाढ़ में बह गया था जिसका निर्माण कार्य पूरा नहीं हुआ था। 

अमदाबाद : निचले इलाकों में फैला पानी
अमदाबाद में महानंदा के बढ़ते जलस्तर से बाढ़ का संकट गहराने लगा है। सैकड़ों एकड़ में लगी पटसन की फसल बर्बाद होने के कगार पर है।  महानंदा विभाग के कनीय अभियंता विजय कुमार ने बताया कि सुबह 6 बजे 26.74 सेंटीमीटर महानंदा नदी का जलस्तर था। दोपहर 12 बजे महानंदा नदी का जलस्तर 26.75 सेमी रहा, जो  मामूली वृद्धि को दर्शाता है। एक-दो दिन में महानंदा के जलस्तर में कमी आने की संभावना है।
432 शरण स्थल किए गए हैं चिह्नित
बाढ़ से निपटने को लेकर जिला प्रशासन पूरी तरह तैयार है। 253 सरकारी नाव व 404 निजी नाव तैयार है। इसके साथ ही 5 मोटरबोट और 14 हजार 532 पॉलिथीन सीट की व्यवस्था की गई है। 263 लाइफ जैकेट, दो मोटर बोट चालक, 93 गोताखोर, 146 राहत एवं बचाव दल के साथ 432 शरणस्थल को चिह्नित किया गया है। 
के तनुज, डीएम, कटिहार

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज का दिन पारिवारिक और आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदायी है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति का अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ निश्चय से पूरा करने की क्षमत...

और पढ़ें

Advertisement