• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • Katihar
  • Maintain Consistency In Studies, Do Not Get Entangled In The Web Of Too Many Books And Keep Distance From Distracting Friends; Big Learning Of UPSC Topper By Making Small Targets, You Can Achieve Big Goals

सफलता के 'शुभम' टिप्स:UPSC टॉपर शुभम बोले- पढ़ाई में निरंतरता बनाएं रखें, ज्यादा किताबों के जाल में नहीं उलझें और भटकाने वाले दोस्तों से दूरी बना कर रहें

कटिहार2 महीने पहलेलेखक: अमर प्रताप
  • कॉपी लिंक
अपनी मां के साथ यूपीएससी टॉपर शुभम। - Dainik Bhaskar
अपनी मां के साथ यूपीएससी टॉपर शुभम।

कदवा प्रखंड के कुम्हरी निवासी शुभम कुमार यूपीएससी टॉपर बने हैं। देश की सर्वोच्च प्रतियोगिता परीक्षा में सर्वोच्च आने के लिए शुभम ने किन बातों को आत्मसात किया और किन बातों से परहेज किया। इसको उन्होंने पहली बार दैनिक भास्कर से शेयर किया। बता दें कि 2019 में अपने दूसरे प्रयास में यूपीएससी की परीक्षा में शुभम को 290 रैंक मिला था।

सफलता के मंत्र के बारे में बताते हुए शुभम ने कहा कि प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता के लिए तैयारी (पढ़ाई) में निरंतरता जरूरी है। टारगेट को छोटे-छोटे भाग में निर्धारित करें और उसे अचीव करें। इससे ही बड़े लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि कोई भी लक्ष्य बड़ा नहीं होता है। यह इस पर निर्भर करता है कि आप किस माइंडसेट के साथ तैयारी करते हैं।

मां बोलीं-हमारे लिए इससे बड़ी खुशी क्या हो सकती

शुभम के पिता देवानंद सिंह उत्तर बिहार ग्रामीण बैंक में पूर्णिया में ब्रांच मैनेजर हैं। उन्होंने बताया कि मेरा भी सपना आईएएस बनने का था, लेकिन पारिवारिक स्थिति अच्छी नहीं होने से तैयारी तरीके से नहीं कर सका। मेरी इस कसक काे बेटे ने पूरा कर दिया है। मां ने कहा-इससे बड़ी खुशी क्या होगी।

शुभम ने गिनाए पांच प्वाइंट, जिस पर चलकर वे बने यूपीएससी के टॉपर

  • सवाल - यूपीएससी की तैयारी करने वालों को क्या पांच काम करना चाहिए?

जवाब - छोटी-छोटी लक्ष्य को रख कर पूरा करना। बेहतर फ्रेंड सर्कल बनाना। लगातार अभ्यास करना। अपने लक्ष्य को हमेशा ध्यान रखना और सिलेबस की पूरी जानकारी लेना।

  • सवाल - पांच काम जो तैयारी करने वाले अभ्यर्थियों को नहीं करनी चाहिए?

जवाब - अधिक किताबों का अध्ययन नहीं करना चाहिए इससे समय की बर्बादी हाेती है। बाहरी परिवेश से दूर रहें। एक बार में ही बड़ा लक्ष्य को टारगेट नहीं करें। माइंड को बदलने वाले दोस्तों व करीबियों से दूर रहें। काम को दबाव में ना करें उसे बेहतर प्रबंधन के साथ करें, सफलता मिलनी तय है।

  • सवाल - ऑप्शनल में क्या विषय और किताब का अध्ययन किया?

जवाब - एंथ्रोपोलॉजी विषय ऑप्शनल रहा। द मिस्ट्री ऑफ एंथ्रोपोलॉजी, इन सर्च ऑफ एंथ्रोपोलॉजी बुक का अध्ययन किया। पीटी से पूर्व 3 महीने की तैयारी की थी। पीटी होने के बाद मेन्स की तैयारी के लिए ऑप्शनल के अध्ययन के लिए पढ़ाई का 50% समय दिया।

  • सवाल - सिविल सेवा परीक्षा के बारे में पहली बार कब सोचा?

जवाब - आईआईटी में इंजीनियरिंग के अंतिम वर्ष में यूपीएससी की तैयारी के बारे में सोचा। 2018 में बीटेक उत्तीर्ण होने के बाद छह माह कोचिंग की। इसके बाद सेल्फ स्टडी शुरू की।

खबरें और भी हैं...