लापरवाही:अधिकांश रेलवे क्वार्टर जर्जर, फिर भी अधिकारी बेपरवाह

कटिहार19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • रेल कर्मी वर्षों से अपनी और परिवार के सदस्याें की जान का खतरा माेल ले जर्जर क्वार्टर में रहने काे है विवश

कटिहार मंडल रेल कटिहार हेडक्वार्टर में अधिकांश रेलवे क्वार्टर जर्जर हो गया है। जर्जर रेलवे क्वाटर में रेल कर्मचारी के परिवार जान हथेली में रखकर रहने को विवश है। 1974 में से 150 रेलवे क्वार्टर्स को अयोग्य करार देते हुए अविलंब खाली करने का निर्देश दिया गया था। जबकि अधिकांश क्वार्टर रहने योग्य नहीं है। इमरजेंसी काॅलाेनी, ओटीपाड़ा, न्यू कॉलोनी, ड्राइवर टोला, संतोषी काॅलाेनी, लंगड़ा बागान के रेलवे क्वार्टर में रेल कर्मचारी अपने परिवार के साथ जान जोखिम में रखकर रहने को विवश है। कटिहार मंडल में लगभग 14 हजार कर्मचारी कार्यरत है। जिसमे से कई परिवार पिछले 15 वर्षों से एक ही क्वार्टर में रह रहे हैं। क्वार्टर का अब तक सही तरीके से जीर्णोद्धार एक बार भी नहीं किया गया है। अधिकांश क्वार्टर की छत तथा छप्पर क्षतिग्रस्त हो जाने के कारण बरसात के अलावा हर मौसम में छत से पानी टपकते रहता है। छत के ऊपर पॉलीथीन लगाकर जीवन गुजर बसर करते है। छत पर लगे पानी टंकी ओवरफ्लो हो जाने से यह पानी कमरे एवं किचन तक प्रवेश कर जाता है। अधिकांश क्वार्टर का दीवार में दरारें आ चुकी है। न्यू कॉलोनी वाटर संख्या 453 के साथ इस कतार के सभी क्वार्टर रहने योग्य नहीं है। इन क्वार्टर में अभी तक बिजली से संचालित मोटर युक्त पानी टंकी नहीं लगाया गया है। इसके बावजूद रेल कर्मचारी परिवार सहित रह रहे हैं। 453 (बी) क्वार्टर में रमेश कुमार शर्मा अपने परिवार के साथ पिछले 15 वर्षों से रह रहे हैं। रेल कर्मचारी रमेश कुमार शर्मा की पत्नी चरणजीत कौर ने बताया कि 15 वर्षों से क्वार्टर का सही ढंग से एक भी बार रिपेयरिंग नहीं किया गया है। जिसके कारण सभी दीवाल में दरारें आ चुकी है। प्लास्टर टूटकर गिरना शुरू हो गया है। छत का एसबेस्टस भी टूट चुका है। जिसके कारण हर मौसम में छत से पानी टपकते रहता है। बाथरूम एवं शौचालय में पानी की व्यवस्था नहीं रहने से काफी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। इमरजेंसी कॉलोनी का क्वार्टर संख्या 730 में जुमादीन ने बताया कि क्वार्टर का छत काफी क्षतिग्रस्त हो गया है। जिसके कारण छत पर रखे पानी टंकी लीक हो जाने के कारण नियमित रूप से छत का पानी शयनकक्ष से लेकर रसोई घर तक प्रवेश कर रहा है। जिसके कारण रसोई में खाना बनाना दूभर हो रहा है।

दिया जाएगा हाउस रेंट : वाणिज्य प्रबंधक
कटिहार रेल मंडल के वरिष्ठ वाणिज्य प्रबंधक अमर मोहन ठाकुर ने बताया कि रेल मंत्रालय के द्वारा जारी निर्देश के अनुसार नए भवन का निर्माण वर्तमान में नहीं कराया जाएगा, इसके लिए रेल कर्मियों को निजी स्तर पर किराए के मकान में रहने के लिए हाउस रेंट दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...