आक्रोश:7 छात्र-छात्राओं के रजिस्ट्रेशन पर रोक का विरोध

कटिहार3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कॉलेज प्रबंधन का घेराव करते कार्यकर्ता व पीड़ित छात्र-छात्राएं। - Dainik Bhaskar
कॉलेज प्रबंधन का घेराव करते कार्यकर्ता व पीड़ित छात्र-छात्राएं।
  • मनमानी से बीसीए के छात्र परेशान, एनएसयूआई की अगुवाई में कॉलेज के प्राचार्य का घेराव

पूर्णिया विश्वविद्यालय प्रबंधन के बिना सूचना के बीसीए के 7 छात्र-छात्राओं के रजिस्ट्रेशन पर रोक लगाने, डीएस कॉलेज से पूर्णिया कॉलेज पूर्णिया स्थानांतरण होने के विरोध में एनएसयूआई के प्रदेश सचिव निखिल कुमार सिंह के नेतृत्व में पीड़ित छात्र-छात्राओं व उनके अभिभावकों ने कॉलेज के प्रभारी प्राचार्य सीबीएल दास का घेराव किया। डीएस कॉलेज बीसीए के 20 - 21 में नामांकन प्रथम सेमेस्टर के छात्र सौरभ कुमार दास, रूपा कुमारी, लक्ष्मी कुमारी, मनीषा कुमारी, मेहराज आलम, अंकित अनुराग, अभिषेक झा ने आरोप लगाया कि विवि व डीएस कॉलेज प्रबंधन अपनी मनमानी करते हुए बीसीए में नामांकन होने के बाद भी उन लोगों का रजिस्ट्रेशन पर रोक लगाकर उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। छात्रों ने प्रभारी प्राचार्य के समक्ष बताया कि पूर्णिया विश्वविद्यालय द्वारा पूर्व के सत्र 2018 में कला से उत्तीर्ण कई छात्र-छात्राओं का नामांकन बीसीए में लिया गया। अब छात्रों का रजिस्ट्रेशन पर रोक लगाकर दूसरे कॉलेज में स्थानांतरण करने की योजना बनाई जा रही है। इससे उन लोगों को कटिहार से पूर्णिया आने जाने में आर्थिक, शारीरिक एवं मानसिक रूप से परेशानी का सामना करना पड़ेगा। छात्रों ने कॉलेज के बीसीए कोऑर्डिनेटर व प्रबंधन से पूर्व में लिए गए नामांकित छात्रों को भी इस विषय के अनुसार दूसरे कॉलेज में स्थानांतरण करने की मांग की है। अगर उनकी मांगें नहीं पूरी नहीं हुई तो वे कॉलेज स्तर से लेकर विश्वविद्यालय स्तर तक आंदोलन करेगें। मौके पर जिलाध्यक्ष असरार हाशमी, राम बहादुर यादव, सुबोध कुमार, अरुण कुमार, अंकित कुमार सहित अन्य छात्र नेता उपस्थित होकर प्रभारी प्राचार्य से छात्रों की समस्या पर अविलंब ध्यान देते हुए उनके समस्या के निराकरण की मांग की है।

विवि प्रबंधन से मिलकर अपनी समस्या को रखें
यह विश्वविद्यालय की गलती हैं। इसलिए वे छात्रों को पूर्णिया विश्वविद्यालय प्रबंधन से मिलकर अपनी समस्या रखना चाहिए।
प्रो. सीबीएल दास, प्रभारी प्राचार्य, डीएस कॉलेज

खबरें और भी हैं...