कार्यक्रम:राष्ट्रहित में काम करने का लिया संकल्प

कटिहार3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रामफल मंडल के चित्रपट पर पुष्प अर्पित करते लोग। - Dainik Bhaskar
रामफल मंडल के चित्रपट पर पुष्प अर्पित करते लोग।
  • श्रद्धांजलि शहीद रामफल मंडल की मनाई गई जयंती, बोले-उनका व्यक्तित्व प्रेरणादायी

शहर के हृदयगंज के मंडल कॉम्प्लेक्स में शहीद रामफल मंडल की जयंती समारोहपूर्वक मनायी गई। जयंती समारोह में मंडल समाज के दर्जनों लोग शामिल रहकर स्व मंडल के तैल चित्रपट पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी तथा भारत छोड़ो आंदोलन में उनकी कुर्बानियों को याद करते हुए सामाजिक कुरीतियों के विरुद्ध एकजुट होकर राष्ट्रहित में काम करने का संकल्प लिया। मुख्य वक्ता के रुप में अपना विचार रखते हुए डीएस कालेज कटिहार के सेवानिवृत प्राध्यापक प्रो सत्यनारायण मंडल ने कहा कि स्व रामफल मंडल का चरित्र और व्यक्तित्व आज के युवाओं के लिए प्रेरणादायी है। उन्होंने उनके नारे को भी समारोह में दुहराया- जिल्लत और अपमान का कोड़ा अब हमको ना सहना है। जिन आंखों में आंसू है, उसमें चिंगारी भरना है। उन्होंने कहा कि उनका जन्म 6 अगस्त 1924 को सीतामढ़ी जिले के महाराजपुर गांव में हुआ था। वे 19 वर्ष की उम्र में महात्मा गांधी के आह्वान पर भारत छोड़ो आंदोलन में भाग लेकर हजारों लोगों का नेतृत्व किया था। एक अंग्रेज पदाधिकारी की हत्या के जुर्म मे अंग्रजी सरकार द्वारा फांसी की सजा सुनाई गई थी, जिसे उन्होंने 23 अगस्त 1943 को सेन्ट्रल जेल भागलपुर में हंसते हुए स्वीकार कर लिया था। समारोह में आनंदी मंडल, सुमन कुमार सिंह, महेश मंडल, रमेश कुमार मंडल, चंदन पटेल, संत कुमार, विक्रम मंडल, मुन्ना मंडल, विद्यानंद मंडल, मुकेश मंडल सहित दर्जनों लोग शामिल रहे।

खबरें और भी हैं...