आस्था / सुहागिनों ने अन्न-वस्त्र दान कर किया वट सावित्री व्रत

Suhagins donated food and clothing, vat Savitri fast
X
Suhagins donated food and clothing, vat Savitri fast

  • लॉकडाउन के कारण सुहागिनों ने घर में ही वट वृक्ष के तना को लेकर पूजा-अर्चना की

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

कटिहार. वट सावित्री व्रत को लेकर शुक्रवार को सुहागिनों ने पति की लंबी आयु के लिए पूजा अर्चना की। इसे लेकर शहर में कई वट वृक्ष के समीप महिलाओं को पूजा करते देखा गया। हालांकि लॉकडाउन को लेकर शहर में कई जगह महिलाओं ने घर में ही वट की डाल को लेकर पूजा-अर्चना की। 

यह पूजा प्रत्येक वर्ष ज्येष्ठ कृष्ण पक्ष के चतुर्दशी तिथि को किया जाता है। यह अनुष्ठान शास्त्रों के अनुसार इस वर्ष भी सुहागिन महिलाओं ने नए परिधान पहन व सज-धज कर वट-वृक्ष के नीचे पहुंच कर पूजा-अर्चना की। व्रती महिलाओं ने भगवान शंकर द्वारा उवाचित वट-सावित्री कथा का पाठ किया, तथा पंच फल, नैवेद्य अर्पित कर कच्चे धागा के साथ वट वृक्ष की परिक्रमा भी की गई।

इस अवसर पर वट सावित्री पूजा के खास प्रचलित गीत को भी गाया गया। महिलाओं ने पूजा-अर्चना के बाद अपने पति की आरती उतारी तथा उनके चरणामृत का पान किया और ईश्वर से अपने पति की दीर्घ आयु की कामना की। साथ ही प्रसाद चढ़ाकर बंधू-बांधवों में वितरण किया। तथा गरीबों व ब्राह्मणों को अन्न-वस्त्र आदि का दान भी किया।

पूजा के बाद घर पहुंचकर महिलाओं ने अपने पति की आरती की, पंखा झेला तथा उनसे सदा-सुहागन होने का आशीर्वाद लिया। इस पूजा के महत्व के बाद व्रती महिलाओं ने बताया कि सती सावित्री ने यमराज से लड़कर अपने पति को मौत के मुंह से वापस लौटकर उनको नई जिंदगी दी थी। उस दिन से इस पूजा की परम्परा शुरू हुई जो सनातन धर्मानुसार शास्त्र में वर्णित है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना