पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सराहनीय:गर्भवती होकर भी कोरोना मरीजों की सेवा कर रही सुलेखा व सोनी

रविकांत यादव | कटिहारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सदर अस्पताल के आईसीयू वार्ड में काम करती सोनी - Dainik Bhaskar
सदर अस्पताल के आईसीयू वार्ड में काम करती सोनी
  • जज्बे काे सलाम : कटिहार सदर अस्पताल की दो महिला नर्स का सेवा भाव सुनें ,काम करते दौरान सुलेखा हुई कोरोना संक्रमित,दोहरी जिंदगी के साथ कर रही सेवा

बिहार में जारी कोरोना के कहर के बीच कटिहार सदर अस्पताल की दो महिला नर्स लोगों के लिए सेवा और समर्पण की नजीर बन रही है। दोनों के सेवा भाव की हर कोई तारिफ कर रहा है। कोरोना काल के दौरान अपनी जिम्मेदारी से भागते कई अधिकारी और कर्मियों की खबर अक्सर देश भर में सुर्खियां बन रही है। लेकिन कटिहार सदर अस्पताल में कार्यरत दो ऐसी महिला कोरोना वारियर्स की कहानी जो गर्भवती होने के बाद भी अपने फर्ज का पूरी तरह से निर्वहन कर रही है। कटिहार की ये दोनों महिलाएं सदर अस्पताल में एएनएम है। कटिहार जिला में स्वास्थ्य विभाग में सुलेखा और सोनी अप्रैल माह में योगदान किया था। जिसके बाद दोनों की ड्यूटी कटिहार सदर अस्पताल के वैक्सीनेशन केंद्र पर लगाई गई थी। लेकिन कोरोना के मरीजों की बढ़ती संख्या के बाद फिलहाल दोनों को सदर अस्पताल स्थित आईसीयू में तैनात है।

जिम्मेदारी को समझते हुए बनी है ड्यूटी पर
दोनों महिलाकर्मी गर्भवती है। लेकिन इसके बावजूद कोरोना के इस विकराल दौर में भी अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए ड्यूटी पर बनी हुई है। सुलेखा अब सात माह की गर्भवती है। इस दौरान कोरोना के मरीजों को रोज इलाज करते हुए उसकी खुद की रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिटिव आ गई है। जिसके बाद सुलेखा कुछ तनाव में तो जरूर है। लेकिन कहती है कि उन्हें अफसोस इस बात कि है कि अब आगे वो लोगों को अपनी सेवा नहीं दे पाएगी।

फर्ज के सामने सब कुछ कुर्बान
छह माह की गर्भवती सोनी कहती है कि सुलेखा की पॉजिटिव होने की खबर के बाद कुछ डर तो जरूर है। लेकिन फर्ज के सामने सब कुछ कुर्बान है। सोनी ने कहा कि जब तक शरीर साथ देगा अपनी जिम्मेदारी से नहीं भागेंगे। कटिहार अस्पताल मैनेजेर भवेश कुमार कहते है कि एक दिन पहले ही सुलेखा की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जिसके बाद उन्हें ऑफ कर दिया गया है। आगे स्वास्थ्य विभाग उनके लिए तमाम सुविधाओं पर ध्यान रखेगा। स्वास्थ्य प्रबंधक कहते है कि वाकई कटिहार स्वास्थ्य विभाग के लिए अन्य कर्मियों के साथ-साथ ये दोनों महिला स्वास्थ्य कर्मी एक उदाहरण है। जिस दौर में अपने ही लोग अपनों से मुंह मोड़ लेते है। उस दौरान ये दोनों महिला दोहरी जिंदगी को दांव में लगाकर लोगों की सेवा के लिए तत्पर है।

खबरें और भी हैं...