पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राहत:गंगा, कोसी, बरंडी और कारी कोसी के जलस्तर में आई गिरावट, महानंदा डेंजर लेवल से नीचे पहुंची

कटिहार14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जलस्तर में गिरावट से पीड़ितों को बाढ़ से राहत मिलने की जगी उम्मीद

रविवार रात से जिले की सभी नदियों के जलस्तर में गिरावट शुरू हो गई। जलस्तर में गिरावट से अब लोगों को बाढ़ से राहत मिलने की उम्मीद जग गई है। हालांकि गंगा, कोसी, बरंडी और कारी कोसी अब भी लाल निशान के ऊपर बह रही है। वहीं कुर्सेला, मनिहारी, अमदाबाद और बरारी के निचले इलाके में बाढ़ का पानी अब भी बरकरार है। हजारों हेक्टेयर में लगी फसलें डूब गई है। वहीं जलस्तर में गिरावट से कई इलाकों में कटाव तेज हो गया है। कटाव से सबसे ज्यादा परेशानी अमदाबाद प्रखंड में हो रही है। अमदाबाद के कई गांव कटाव की चपेट में है। सोमवार को 12 घंटे के दरमियान महानंदा के जलस्तर में 18 सेंमी, गंगा के जलस्तर में 4, बरंडी के जलस्तर में 3, कारी कोसी के जलस्तर में 5 और कोसी के जलस्तर में 5 सेंटीमीटर की गिरावट हुई। हालांकि महानंदा छोड़ गंगा 1.18 मीटर, बरंडी 80 सेंमी, कारी कोसी 17 सेमी और कोसी का जलस्तर 1 मीटर खतरे के निशान से ऊपर बह रही है।

अमदाबाद में महानंदा और गंगा के कटाव की समस्या बढ़ी
बाढ़ से जिले के लगभग 8 प्रखंड प्रभावित है। हालांकि कुछ प्रखंडों से पानी निकल गया है, लेकिन कुछ प्रखंडों के निचले इलाके में बाढ़ का पानी अभी जमा है। जिसके कारण बाढ़ प्रभावित इलाके के लोग ऊंचे स्थल, रेलवे लाइन और तटबंध पर शरण लिए हुए हैं। वहीं अमदाबाद में महानंदा और गंगा के कटाव के कारण लोग अपनी जान माल की रक्षा करने के लिए अपने घरों को तोड़ रहे हैं या छोड़ कर सुरक्षित जगह जा रहे हैं। इन इलाकों के लोगों का कहना है कि कटाव के स्थाई समाधान को लेकर सरकार व विभाग द्वारा किसी प्रकार का समाधान नहीं निकला।

88 हजार बाढ़ पीड़ित परिवार के खाते में जीआर राशि
बाढ़ को लेकर जिला प्रशासन की ओर से बाढ़ प्रभावित इलाकों में 266 सामुदायिक किचन और चिकित्सकीय शिविर चलाया जा रहा है। इसके अलावा 11 पशु चिकित्सा शिविर में पशुओं का भी इलाज किया जा रहा है। वही जीआर की राशि लगभग 88 हजार बाढ़ पीड़ित परिवार के खाते में भेज दी गई है। वहीं जिला प्रशासन द्वारा फूड पैकेट व सूखा राशन का वितरण जारी है। वही 15,000 से अधिक हेक्टेयर में लगी फसल डूब बर्बाद हो गई है।

खबरें और भी हैं...