कोरोना / घर और गांव से निकाला तो सड़क किनारे ठेला लगाकर खुद क्वारेंटाइन हो गया विकास

When evacuated from home and village, development became quarantine itself by putting a roadside jamming
X
When evacuated from home and village, development became quarantine itself by putting a roadside jamming

  • कार्यालय व अस्पताल में चक्कर के बाद लिया निर्णय

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

कटिहार. गुजरात से आया मजदूर विकास खुद को क्वारेंटाइन करने के लिए दिन भर कार्यालय का चक्कर लगाता रहा, लेकिन कहीं उसे क्वारेंटाइन नहीं किया गया। अनुमंडल अस्पताल प्रशासन ने होम क्वारेंटाइन रहने को कहा। जबकि पड़ोसी एवं घर वालों ने घर में प्रवेश तक नहीं करने दिया। अंत में विकास ने सड़क किनारे ठेला लगाकर खुद को क्वारेंटाइन कर लिया। 
विकास ने बताया कि गुजरात से कमा कर वह नौ हजार रुपए भी लाया था,  लेकिन घर वालों ने घर में प्रवेश तक नहीं करने दिया। मनिहारी नगर पंचायत के वार्ड संख्या दो नया टोला निवासी विकास साह गुजरात के जामनगर से बस से शुक्रवार को कटिहार पहुंचा। जहां से ऑटो से मनिहारी आया। विकास क्वारेंटाइन होने के लिए निकट के क्वारेंटाइन सेंटर पर गया पर वहां भी उसे नहीं रखा गया। परेशान विकास अंचल कार्यालय गया तो उसको अनुमंडल अस्पताल भेज दिया गया। अस्पताल से स्वास्थ्य जांच के उपरांत फिर वह अंचल कार्यालय आया पर उसे सेंटर की बजाय होम क्वारेंटाइन में रहने को कहा गया। वह जब दोबारा अपने घर गया तो उसे उसके पड़ोसी व घरवालों ने घर में रखने से मना कर दिया। ग्रामीणों ने उसे गांव से भी निकल जाने को कहा। विवश विकास मनिहारी बस स्टैंड के प ास एक ठेला पर ही क्वारेंटाइन हो गया। जहां कुछ स्थानीय युवकों से मांग कर उसने खाना खाया और एक चादर मांगकर रात काटी।  विकास ने कहा कि वो दिन भर भूखा प्यासा कार्यालयों के चक्कर काटता रहा पर किसी ने उसकी मदद नहीं की। लेकिन मेरा छोटा भाई खाना लेकर मुझे दे जाता है। जब तक 14 दिन पूरा नहीं हो जाता तब तक मैं इसी ठेला पर रहूंगा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना