पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विरोध:निजी कर्मियों ने की सफाई तो संविदाकर्मी भड़के दोनों में हाथापाई, सड़क पर फेंके कचरा

कटिहार15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रविवार को आउटसोर्सिंग कर्मियों की सफाई कार्य को रोकने पहुंचे संविका कर्मी और मौजूद पुलिस बल। - Dainik Bhaskar
रविवार को आउटसोर्सिंग कर्मियों की सफाई कार्य को रोकने पहुंचे संविका कर्मी और मौजूद पुलिस बल।
  • 6 दिन से नियमितीकरण सहित अन्य मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं नगर निगम के संविदा कर्मी

6 दिनों से नगर निगम के सफाई कर्मियों की हड़ताल से अब संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। शहर के हर मुख्य चौक चौराहे और सड़कों पर कूड़े का अंबार लगा हुआ है। हालांकि जिला प्रशासन ने दो दंडाधिकारी नियुक्त कर रविवार को निगम के हीं आउटसोर्सिंग सफाई कर्मियों द्वारा शहर की सफाई शुरू करवाई जिस पर हड़ताली सफाई कर्मियों ने जमकर बवाल काटा। हड़ताली कर्मियों ने जमा कचरे को उठाकर सड़कों पर फेंकना शुरू कर दिया। यहां तक की आउटसोर्सिंग के तहत साफ सफाई कर रहे मजदूरों के साथ हाथापाई भी की।

हालात बिगड़ते देख डीएम उदयन मिश्रा ने खुद पहुंचकर हड़ताली सफाई कर्मियों से बातचीत कर सफाई व्यवस्था बहाल करने की कोशिश की। उसके बावजूद हड़ताली सफाई कर्मी अपनी मांगों पर अड़े रहे और वैकल्पिक व्यवस्था के तहत की जा रही साफ-सफाई को रोक दिया। जिसके बाद जिला प्रशासन ने नगर थाना पुलिस का सहयोग लेकर आउटसोर्सिंग के सफाई कर्मियों द्वारा शहर के मुख्य इलाकों में साफ सफाई का अभियान चलाया। इस पूरे मामले में डीएम ने कहा कि पूरे बिहार में सफाई कर्मियों की हड़ताल के कारण शहर की साफ सफाई व्यवस्था प्रभावित है। इस समस्या के समाधान का प्रयास किया जा रहा है। जल्द इस पर ठोस निदान देखने को मिलेगा।

शहर में लग गया था कचरे का ढेर
डीएम उदयन मिश्रा ने कहा कि नगर निगम में साफ सफाई का कार्य दो प्रकार से किया जाता है। जिसमें 45 में से आधे वार्ड में नगर निगम के सफाई कर्मी और आधे वार्ड में आउटसोर्सिंग के तहत साफ सफाई करवाई जाती है। 6 दिनों से नगर निगम के सफाई कर्मी के हड़ताल पर रहने से शहर के मुख्य इलाकों में जगह-जगह कूड़े कचरे का ढेर लग गया था।

सफाई को लेकर दंडाधिकारी नियुक्त
डीएम ने कहा कि हड़ताली सफाई कर्मियों द्वारा आउटसोर्सिंग के कर्मियों के काम में व्यवधान उत्पन्न किया जा सकता है। उन्होंने आउटसोर्सिंग में लगे मानव बल को सुरक्षा प्रदान करने का निर्देश देते हुए उत्पन्न करने वाले हड़ताली कर्मियों के विरूद्ध कानूनी कार्रवाई करने की बात कही है। उप नगर आयुक्त विनोद कुमार और दिनेश कुमार सिन्हा को दंडाधिकारी भी प्रतिनियुक्त कर दिया गया है।

मांगें पूरी नहीं होने तक चलेगी हड़ताल
बिहार लोकल बॉडीज कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा और स्थानीय निकाय कर्मचारी संघ के आह्वान पर सफाई कर्मी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। दैनिक मजदूरों का नियमितीकरण, समान काम समान वेतन अथवा 18000 से लेकर 21000 तक महावारी वेतन की मांग की गई है। मांग पूरी नहीं होती तब तक हड़ताल जारी रहेगी।

खबरें और भी हैं...