पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बीपी मंडल सेतु के एप्रोच पथ पर खतरा:2 माह में 128 फीट हुआ कटाव, एप्रोच पथ कटने के लिए अब सिर्फ 25 फीट ही बचा

खगड़िया| कुमार अनुज/ राकेश2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रोजाना हो रहे कटाव से बीपी मंडल सेतु के कई पाए के चारों तरफ से मिट्टी बह गया, कम पानी होने से कटाव और तेज हाे गया है जिससे आवाजाही पर खतरा हो गया है। - Dainik Bhaskar
रोजाना हो रहे कटाव से बीपी मंडल सेतु के कई पाए के चारों तरफ से मिट्टी बह गया, कम पानी होने से कटाव और तेज हाे गया है जिससे आवाजाही पर खतरा हो गया है।
  • आवाजाही पर संकट 1990 में बने पुल पर फिर से कटाव का संकट, डीएम ने मामले पर प्रधान सचिव से की बात
  • 56.70 कराेड़ की लागत से क्षतिग्रस्त बीपी मंडल सेतु पर बनाया गया था केबल स्टे ब्रिज
  • 19 अगस्त 2010 को बीपी मंडल के क्षतिग्रस्त होने के बाद परिचालन किया गया था बंद

कोसी और बागमती नदी के संगम स्थल डुमरी में बना बीपी मंडल सेतु से अावाजाही भंग हाे सकता है। पुल के एप्रोच पथ का कटाव में तेजी आ गया है। स्थिति काफी भयावह है। कोसी व बागमती नदी ने मिल कर एक बार फिर अपना रौद्र रूप दिखाना शुरू कर दिया है। जानकारी के अनुसार कटाव पिछले 2 माह से लगातार हो रहा है। लेकिन इसकी सुध लेने वाला कोई नहीं है। कटाव की स्थिति का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सिर्फ 2 माह में पुल के पास 128 फीट कटाव हुआ है। अब मात्र एक पाया यानी 25 फीट की दूरी शेष रह गई है। इस 25 फीट के कटाव के बाद एप्रोच पथ से पुल का संपर्क पूरी तरह से भंग हो जाएगा। इधर डीएम आलोक रंजन घोष ने सूचना पाकर न सिर्फ कटाव स्थल का जायजा लिया और पूरे मामले से जल संसाधन विभाग के प्रधान सचिव से बात की है। डीएम ने बताया कि आज ही पटना से इंजीनियर की टीम कटाव स्थल का जायजा लेने के लिए आने वाली है। डीएम आलोक रंजन घोष ने बताया कि कटाव के विकराल रूप की जानकारी मिलते ही मैं मौके पर गया था। लोगों की समस्या को अच्छा तरह समझ रहा हूं और अपनी समस्या मान के काम कर रहा हूं। पूरे मामले में विभाग के प्रधान सचिव से बात कर चुका हूं। आज देर शाम तक पटना से इंजीनियर की टीम कटाव स्थल का मुआयना करने के लिए आ रही है। उनलोगों के रिपोर्ट के तुरंत बाद काम शुरू कराने की कोशिश की जाएगी।

2010 से बंद था पुल, 2018 में हुआ चालू
बीपी मंडल सेतु के कारण कोसी सहित उत्तर बिहार के इलाके का विकास का रास्ता पूरी तरह से बंद था। पुल के चालू होने के बाद जब लोगों को एक बार फिर से विकास की उम्मीद जगी तो अब लग रहा है कटाव रास्ते में आकर खड़ा हो गया है। 19 अगस्त 2010 को बीपी मंडल पुल में एक्सपेंश गैप बढ़ जाने के कारण परिचालन बंद किया गया था। इसके बाद इंजीनियरों की टीम ने इसका मुआयना किया था और बताया कि पुल के 290 मीटर के हिस्से को तोड़ कर फिर से बनाना होगा। फिर केबल स्टे ब्रिज का फार्मूला तैयार हुआ और उसपर काम शुरू होता उससे ठीक पहले लोगों की समस्या को देख हुए सरकार ने 17 करोड़ की लागत से बीपी मंडल सेतु के ठीक बराबर में स्टील पाइल ब्रिज बना दिया। लेकिन यह ब्रिज भी लोगों को 6 माह से ज्यादा की सेवा लोगों को नहीं दे पा रही थी।

5 पंचायत की 40 हजार आबादी हो रही है प्रभावित
स्थानीय लोगों की मानें तो 5 पंचायत की लगभग 40 हजार की आबादी कटाव के कारण प्रभावित हो रही है। इसमें से कुछ लोग गाइड बांध पर ही शरण लिये हुए हैं। हालांकि गाइड बांध पर रहने वाले लोग 15 वर्ष पूर्व हुए कटाव के शिकार हैं। लेकिन अगर अभी कटाव की रफ्तार को नहीं रोका गया तो दक्षिण बिहार का संपर्क भंग हो जाएगा।

पानी कम और ज्यादा होने पर तेज हो जाता है कटाव
पुल के पास जिस रफ्तार से कटाव हो रहा है उससे ज्यादा खतरनाक रूप में प्रखंड के अंदर गांव में कटाव तेज हो रहा है। उसराहा के जदयू नेता राजेश सिंह, त्रिभुवन सिंह, मनीष कुमार, संजय सिंह, आनंदी सिंह, रामचलितर सदा, विजय सिंह ने बताया कि गाइड बांध से उत्तर गाइड बांध आदि में गांधी नगर इत्मादी, वारूण में कटाव तेज हो रहा है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से उत्साह में वृद्धि होगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी विजय हासिल...

    और पढ़ें