पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लापरवाही:लाॅकडाउन में सुबह के 4 घंटे की छूट बढ़ा रहा संक्रमण की रफ्तार

खगड़ियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ऐसी भीड़ से तो खुली छूट ही बेहतर, 11 बजे के बाद सख्ती के बावजूद भी चोरी छिपे बंदिशों का होता रहता है उल्लंघन
  • सख्ती के बाद भी बाजार में ऑटो और ई-रिक्शा का बेधड़क होता है परिचालन, जान जोखिम में डाल यात्रा कर रहे लोग

कोरोना की दूसरी लहर में जिस तरह संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ी जा रही है उसे देखे हुए राज्य सरकार ने संपूर्ण लॉकडाउन की घोषणा तो कर दी है, मगर जिले में इसका शत प्रतिशत पालन नहीं हो पा रहा है, जिससे संक्रमण पर रोक लगाना संभव नहीं दिख रहा है। क्योंकि सुबह के चार घंटे की छूट और बाजारों में लगने वाली भीड़ की स्थिति ऐसी है कि इससे और भी तेजी से संक्रमण फैल सकता है। इस पर राेक नहीं लगाया गया तो लॉकडाउन का कोई मतलब ही नहीं रह जाता है। शुक्रवार को भास्कर टीम ने सुबह 7 बजे से 11 बजे तक खगड़िया शहर के अलावा विभिन्न प्रमुख बाजारों की पड़ताल की तो स्थिति चौकाने वाली सामने आई। लॉकडाउन अवधि में सुबह 7 बजे से 11 बजे तक आवश्यक सेवाओं की दुकान जैसे- सब्जी, दूध, किराना दुकान वगैरह को शर्त के साथ खोलने की अनुमति दी है। जबकि बाकी दुकानों को पूर्णत: बंद रखना है। मगर बाजारों में सभी दुकानें यथावत खुली देखी जा रही है। यहां तक कि 11 बजे के बाद भी कई जगहों पर चोरी छुपे दुकानें खुली देखी जा रही है, जो गलत है। वहीं सुबह से 11 बजे तक पुलिस प्रशासन और अधिकारी भी बाजारों की स्थिति का जायजा लेने नहीं निकलते हैं, जिससे लोग बेफिक्र होकर भीड़ का हिस्सा बनकर कोरोना संक्रमण के चपेट में आ रहे हैं। वहीं यात्री वाहनों का परिचालन भी बेधड़क हो रहा है, बाजारों में ई रिक्शा, ऑटो, जीप और निजी वाहनों से लोग बिना रोक टोक के सफर कर रहे हैं। इस दौरान यात्री वाहन लॉक डाउन का हवाला देकर मनमाना किराया भी वसूल रहे हैं।

जूता चप्पल और रेडिमेड कपड़ा दुकानों पर भीड़

सुबह 11 बजे तक शहर के मेन रोड, स्टेशन रोड, आदि जगहों पर कई रेडिमेड कपड़ा दुकान, जूता चप्पल की दुकान चाय नाश्ते की दुकान भी खुली पाई गई। इन जगहों पर लोगों की भीड़ के कारण सोशल डिस्टेंस को कोई पालन नहीं हो रहा था। जबकि इन्हें कोई रोकने वाला भी नहीं था। इस तरह की खुली छूट खगड़िया वासियों के लिए जानलेवा साबित हो सकती है।

एक दिन में ठीक हुए 212 कोरोना संक्रमित मरीज, मिले 189
पिछले 24 घंटे में जिले में 212 कोरोना संक्रमित मरीज अपने घरों पर रहकर कोरोना को मात देने मे सफल हुए हैं, जो सुखद है। जबकि इन 24 घंटे में 189 नए संक्रमित मरीज पाए गए। अस्पताल के कोविड केयर सेंटर में अभी 26 गंभीर मरीज भर्ती हैं। जिनका चिकित्सकों की देखरेख में इलाज चल रहा है। वर्तमान में जिले में कुल 2046 एक्टिव केस है तथा 2019 लोगों का आरटीपीसीआर जांच रिपोर्ट अभी नहीं आया है।

प्रचार-प्रसार का नहीं दिख रहा काेई असर, 11 बजे के बाद प्रशासन सख्त
पूर्ण लॉकडाउन को सफल बनाने के लिए जिला प्रशासन के तरफ से शहर से लेकर गांव तक विभिन्न प्रचार वाहनों के माध्यम से लॉकडाउन का पालन करने और इस अवधि में मिलने वाली आवश्यक सेवाओं की जानकारी दी जा रही है। मगर इसका कोई प्रभाव नहीं दिख रहा है। दरअसल बेफिक्र लोग जानबूझकर कोरोना वायरस के इस दूसरे लहर का सामना करने के लिए बाजार में भीड़ का हिस्सा बन रहे हैं। जबकि प्रशासनिक लापरवाही से वाहनों का परिचालन हर जगह भीड़ इकट्‌ठा कर रही है। हालांकि 11 बजते ही प्रशासन कार्रवाई करती है।

खबरें और भी हैं...